कोरोना महामारी के बाद कैसे काम करना चाहती हैं टॉप कंपनियां, 3000 CEO ने दिया जवाब

कोरोना महामारी के बाद कैसे काम करना चाहती हैं टॉप कंपनियां, 3000 CEO ने दिया जवाब

नई दिल्ली । कोरोना महामारी के बाद ऑफिस का कामकाज कैसे होना चाहिए और किन चीजों पर अधिक फोकस किया जाना चाहिए, दुनियाभर के 3000 सीईओ के बीच हुए सर्वे में इस सवाल के जवाब तलाशने की कोशिश की गई। आईबीएम का यह सर्वे कोरोना वायरस के साथ ही कॉरपोरेट प्राथमिकताओं से भी पर्दा उठाता है। रिपोर्ट में पांच प्रमुख कारकों की भी पहचान की गई है, जो बेहतर प्रदर्शन करने वाले सीईओ को भीड़ से अलग करते हैं।

आईबीएम की इस 2021 सीईओ रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना महामारी के बाद , डिस्ट्रैक्शन से छुटकारा, बेकार परंपराओं को त्यागना और अद्वितीय फायदे का लाभ उठाना जरूरी है। आईबीएम सर्विसेज के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट मार्क फोस्टर कहते हैं कि कोरोना महामारी ने कंपनियों के लीडर के सामने नई चुनौती पेश की है कि उन्हें कहां अपना फोकस रखना चाहिए और कहां नहीं। जैसे अब कंपनी अपने कर्मचारियों पर ध्यान दे रही है। इस रिपोर्ट के तीन हिस्से हैं- प्राथमिकता, लाभ और सीख।

प्राथमिकताएं

महामारी के बाद काम की प्रमुख तीन प्राथमिकताएं हैं- चुस्ती से काम करना, तकनीक और रेगुलेशन (विनियमन)। चुस्ती से काम करने का अर्थ है तेजी से प्रतिक्रिया करने में सक्षम होने के लिए खुद को तैयार करना। 56 फीसद सीईओ आक्रामक तरीके से अगले दो से तीन वर्षों में परिचालन चपलता और लचीलेपन पर काम करना चाहते हैं। वहीं, अगले कुछ वर्षों में प्रौद्योगिकी का व्यावसाय पर सबसे बड़ा प्रभाव होगा। सीईओ इंटरनेट ऑफ थिंग्स, कनेक्टेड डिवाइसेस, क्लाउड कंप्यूटिंग और आर्टिफ़िशियल इंटेलिजेंस की ओर देख रहे हैं। सर्वे में शामिल आधे सीईओ ने प्राथमिकता के रूप में रेगुलेशन पर ध्यान देने की बात कही है। यह गोपनीयता, डेटा, व्यापार को लेकर सरकारों द्वारा बढ़ती मुखरता को दर्शाता है।

79 फीसद सीईओ इंटरनेट ऑफ थिंग्स पर फोकस कर रहे हैं। 74 फीसद का ध्यान क्लाउड कंप्यूटिंग की ओर है और 52 फीसद सीईओ आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस पर काम करना चाहते हैं।

फायदा

पांच क्षेत्र जो शानदार काम करने वालों और खराब काम करने वालों को अलग करते हैं-

1. लीडरशिप- शानदार प्रदर्शन करने वाले निर्णायक रणनीतिक नेतृत्व दिखाते हैं। 85% व्यापार में प्रदर्शन के लिए नेतृत्व को महत्वपूर्ण मानते हैं।

2. तकनीक-कामयाब कंपनियों के सीईओ नई तकनीक पर फोकस करते हैं और उन्हें अपनाने का रिस्क व अवसर उठाते हैं।

3. कर्मचारी-कोरोना के कारण बने रिमोट वर्क प्लेस (वर्क फ्रॉम होम) शानदार कंपनियों के सबसे फोकस क्षेत्र में से एक है। 50% सीईओ इसे एक महत्वपूर्ण चुनौती के रूप में पहचानते हैं।

4. ओपेन इनोवेशन-63 फीसद सीईओ आगे रहने के लिए खुले नवाचार (इनोवेशन) पर ध्यान दे रहे हैं।

5. साइबर सुरक्षा-26 फीसद कंपनियां अगले कुछ सालों में साइबर सुरक्षा को सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देख रही हैं।

सीख

आईबीएम की इस रिपोर्ट के मुताबिक सीईओ तीन क्षेत्रों पर ध्यान दे रहे हैं-

1. उपभोक्ता- सर्वे में शामिल 48% उत्तरदाताओं ने ग्राहकों और नागरिकों को उनकी सबसे महत्वपूर्ण व्यावसायिक प्राथमिकता माना है। सीईओ अपने ग्राहकों का अनुभव बेहतर बनाना चाहते हैं और नैतिकता और अखंडता पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। आईबीएम की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनियों को पता है कि अपने ग्राहकों और भागीदारों का शोषण करना या थोड़े समय के लिए फायदा उठाना हारने वालों का खेल है।

2. उत्पाद-30 फीसद सीईओ ने प्रोडक्ट और सर्विस पर फोकस को प्राथमिकता बताया है।

3. ऑपरेशन्स-अध्ययन में 20% सीईओ ने कार्यकुशलता, वितरण, मूल्य निर्धारण संरचना और पारदर्शिता पर ध्यान केंद्रित करने की बात कही है।

यह भी पढे >>देश में बढ़ रहे कोरोना के मामले, इन शहरों में मास्‍क लगाना हुआ अनिवार्य (24city.news)

 


पत्रकार अप्लाई करे Apply