छपाक की स्क्रीनिंग पर हाई कोर्ट ने लगाई रोक, 15 जनवरी से लागु होगा आदेश

 

नई दिल्ली: मेघना गुलजार निर्देशित फिल्म ‘छपाक’ इस वीकेंड रिलीज़ हो चुकी है, जिसमें लीड रोल में दीपिका पादुकोण ने अपने अभिनय का जादू चलाया है। फिल्म रिलीज़ से पहले कुछ लीगल झमेले की वजह से चर्चा में रही थी। इस फिल्म की कहानी ऐसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल की है, जिनकी वकील अपर्णा भट्ट फिल्ममेकर्स के खिलाफ कोर्ट पहुंच गई थीं। अब दिल्ली हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुनाते हुए वकील अपर्णा भट्ट को क्रेडिट दिए बिना फिल्म की स्क्रीनिंग पर रोक लगाने का आदेश दिया है।

एएनआई से मिली जानकारी के मुताबिक, ‘दिल्ली हाई कोर्ट ने वकील अपर्णा भट्ट को क्रेडिट दिए बगैर फिल्म रिलीज़ पर रोक लगा दी है, जिन्होंने लक्ष्मी अग्रवाल की कानूनी लड़ाई लड़ी है। यह रोक मल्टीप्लैक्स में 15 जनवरी से और अन्य लाइव स्ट्रीमिंग प्लैटफॉर्म पर 17 जनवरी से लागू होगी।’ बता दें कि इससे पहले दिल्ली हाईकोर्ट ने ‘छपाक’ के फिल्म निर्माताओं को वकील अपर्णा भट को क्रेडिट देने का फैसला सुनाया था।

रिपोर्ट्स की मानें तो दिल्ली हाई कोर्ट ने फॉक्स स्टार स्टूडियो की एक याचिका (अपर्णा भट्ट की याचिका को चुनौती देते हुए दायर याचिका) पर सुनवाई के दौरान फिल्ममेकर्स से सवाल किया था कि लक्ष्मी अग्रवाल की वकील को फिल्म में क्रेडिट क्यों नहीं दिया गया? जज प्रतिभा एम सिंह ने याचिका पर आदेश सुरक्षित रखते हुए कहा था कि कोर्ट शनिवार की सुबह अपना फैसला सुनाएगी।

वैसे तो दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘छपाक’ शुरुआत से ही चर्चा में है। फर्स्ट लुक से लेकर रिलीज़ होने से ठीक पहले सोशल मीडिया पर इसे बॉयकॉट तक की खबरों की वजह से भी यह फिल्म लगातार सुर्खियों में रही है।

क्यों खफा थीं वकील अपर्णा
दरअसल वकील अपर्णा लक्ष्मी अग्रवाल की कहानी पर बनी इस फिल्म में खुद को क्रेडिट नहीं दिए जाने से खफा थीं। उन्होंने फिल्ममेकर्स के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर कर इस फिल्म पर स्टे की डिमांड की थी। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में याचिका दायर करते हुए अपर्णा ने फिल्म के प्रदर्शन पर रोक की मांग की थी। उन्होंने अपनी याचिका में कहा था कि वह एसिड अटैक विक्टिम लक्ष्मी अग्रवाल की सालों तक वकील रह चुकी हैं, बावजूद इसके उन्हें फिल्म में कहीं भी क्रेडिट नहीं दिया गया।

पहले फेसबुक पर किया था विरोध
आपको बता दें कि महिला वकील ने अपने फेसबुक हैंडल पर एक पोस्ट के जरिए अपनी आवाज उठाई थी और बताया था कि फिल्म में उन्हें कोई क्रेडिट नहीं दिए जाने के बारे में जानकर वह काफी बहुत परेशान हैं और फिल्म के निर्माताओं पर कानूनी कार्रवाई करेंगी। अपर्णा ने लिखा था, ‘छपाक देखने के बाद की घटनाओं से काफी परेशान हूं। मुझे अपनी पहचान को बचाने और अपनी ईमानदारी को बनाए रखने के लिए कानूनी कार्रवाई करने को मजबूर किया गया। एक समय मैंने पटियाला हाउस कोर्ट में लक्ष्मी का प्रतिनिधित्व किया था … कल कोई मेरा प्रतिनिधित्व करेगा … जीवन की अजीब विडंबना है।’ उन्होंने आगे दीपिका और फिल्म के निर्माताओं के खिलाफ

महिला वकील ने एक पोस्ट में आगे यह भी लिखा था, ‘मैं अपने सभी दोस्तों को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मेरे योगदान को सराहा और टीम छपाक द्वारा थैंक यू न कह पाने को चुनौती दी! मेरी शक्ति बॉलिवुड के इन ताकतवर निर्माताओं के बराबर नहीं है, लेकिन चुप रहने से अन्याय को और बढ़ावा मिलेगा। मैंने इस मामले को अगले स्तर पर ले जाने का फैसला किया है। परिणाम का सामना करने के लिए तैयार हूं।’

 

 
 
Top