अफगानिस्तानः काबुल में गुरुद्वारे पर आतंकी हमला, प्रार्थना के लिए जमा हुए थे सिख समुदाय के लोग

 
हाइलाइट्स
  • अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गुरुद्वारे पर आतंकी हमला हुआ है
  • जिस वक्त हमला हुआ अरदास के लिए सिख समुदाय वहां जमा हुआ था
  • अफगानिस्तान में पहले भी इस्लामिक स्टेट ने सिखों पर हमले किए हैं
  • सिख समुदाय बुरी तरह से डर गया था और देश छोड़ने का फैसला किया था

काबुल
अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में सिखों के धार्मिक स्थल पर बुधवार को आतंकी हमला हुआ है। बताया जा रहा है कि उस वक्त गुरुद्वारे में सिख समुदाय के लोग प्रार्थना के लिए जमा हुए थे। आंतरिक मामलों के मंत्रालय ने हमले की पुष्टि करते हुए कहा कि अज्ञात बंदूकधारियों और सूइसाइड बॉमर ने अटैक को अंजाम दिया है। उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान में सिख समुदाय मुख्य रूप से जलालाबाद और काबुल में रहते हैं।

अभी हताहतों को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है। वहीं, आंतरिक मंत्रालय के प्रवक्ता तारिक आरियन ने पत्रकारों को बताया कि हमले के तुरंत बाद सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया और जवाबी कार्रवाई की। हमले के पीछे कौन लोग थे इसकी जानकारी सामने नहीं आई है।

अल्पसंख्यक सिखों पर यह पहला हमला नहीं है। पहले भी अफगानिस्तान में उनपर हमले होते आए हैं और डरकर वे भारत आने को मजबूर हुए हैं। 2018 में भी जलालाबाद में आत्मघाती हमला हुआ था जिसमें 13 सिख मारे गए थे। हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी।

हमले से सिख समुदाय इतना डर गया था कि उन्होंने देश छोड़ने का फैसला कर लिया था। अफगानिस्तान में 300 से भी कम सिख परिवार रहता है जिनके पास दो ही गुरुद्वारा है। एक जलालाबाद और एक काबुल में।

 
 

Related posts

Top