ब्लड शुगर टेस्ट स्ट्रिप सस्ते में प्राप्त करे
Dr. Morepen BG-03 Blood Glucose Test Strips, 50 Strips (Black/White)

काजी रसीद मसूद की हिन्दू धर्मानुसार रश्म-पगड़ी का आयोजन, क्या बोले देवबंदी उलेमा…

 
हिन्दू रीति रिवाज के साथ रश्म-पगड़ी हिन्दू रीति रिवाज के साथ रश्म-पगड़ी

देवबंद [24CN]: पूर्व केंद्रीय मंत्री रहे काज़ी रसीद मसूद का कुछ दिन पूर्व बीमारी के चलते निधन हो गया था. आज उनके हिन्दू धर्म के समर्थकों ने बिलासपुर गांव में आज हिन्दू रीति रिवाज व मंत्रोचारण के साथ रश्म पगड़ी तेहरवीं का आयोजन मंत्रोचारण के साथ किया गया.
रश्म पगड़ी में क़ाज़ी रसीद मसूद के बेटे शादान मसूद को पगड़ी पहनाई गयी. तेरहवीं कार्यक्रम में क़ाज़ी रसीद मसूद के भतीजे पूर्व विधायक इमरान मसूद के साथ कई कांग्रेसी नेता व क़ाज़ी के समर्थक मौजूद रहे.

हिन्दू रीति रिवाज के साथ रश्म-पगड़ी की वीडियों


पूर्व मंत्री के इस तेरहवीं कार्यक्रम को लेकर देवबंद के उलेमाओं ने कड़ा एतराज जताया है. देवबंद के उलेमा मुफ़्ती असद कासमी का कहना है कि पूर्व सांसद व मंत्री क़ाज़ी रासीद मसुद के इंतकाल के बाद आज जो ये तेहरवीं का कार्यक्रम किया गया है इस्लाम इसकी कतई इजाजत नही देता. पगड़ी बांधना एक अलग बात है मगर इस्लाम मे हिन्दू रीति रिवाज के साथ किसी मुस्लिम की रश्म पगड़ी तेरहवीं करना गलत है. वही इस मामले में क़ाज़ी परिवार की तरफ से अभी तक को बयान सामने नही आया.

विदित हो पूर्व केंद्रीय मंत्री क़ाज़ी रसीद मसूद पश्चिमी यूपी में हिन्दू-मुस्लिम एकता के प्रतीक माने जाते थे. वो एक ऐसे नेता थे जो हिन्दू-मुस्लिम दोनों वर्गों में लोकप्रिय नेता रहे.

वीडयो: मुफ़्ती असद कासमी देवबन्दी उलेमा

 
 
Top