विदेशी जमातियों पर कसा शिकंजा, 83 के खिलाफ साकेत कोर्ट में दाखिल हो रहीं 20 चार्जशीट

 
  • दिल्ली के साकेत कोर्ट में 83 विदेशी जमातियों के खिलाफ 20 पूरक चार्जशीट
  • मुख्य चार्जशीट तबलीगी जमात के मुखिया मौलाना साद और उनके सहयोगियों के खिलाफ
  • विदेशी जमातियों पर निषेधाज्ञा का उल्लंघन, वीजा शर्तों के उल्लंघन और महामारी ऐक्ट के तहत आरोप

नई दिल्ली
निजामुद्दीन मरकज केस में दिल्ली पुलिस ने विदेशी जमातियों के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। दिल्ली के साकेत कोर्ट में पुलिस तबलीगी जमात के 83 विदेशी सदस्यों के खिलाफ 20 सप्लिमेंट्री चार्जशीट यानी पूरक आरोपपत्र दाखिल कर रही है। पूरक आरोप पत्र में इनके खिलाफ 5 धाराओं के तहत चार्ज किया गया है। दरअसल जब तक कोई आरोप पत्र न हो तब तक विदेशियों को देश में नहीं रोका जा सकता। इसीलिए दिल्ली पुलिस ने उन पर और शिकंजा कस दिया है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि मुख्य चार्जशीट तबलीगी जमात के मुखिया मौलान साद और उनके सहयोगियों के खिलाफ है। विदेशी जमातियों के खिलाफ पूरक आरोप पत्र में पुलिस ने उन पर वीजा नियमों के उल्लंघन समेत गंभीर आरोप लगाए हैं। उन पर टूरिस्ट वीजा पर भारत आने और मजहबी गतिविधियों में शामिल होकर वीजा शर्तों के उल्लंघन का आरोप है। इसके अलावा उन पर धारा 144 के उल्लंघन का भी आरोप है। उनके ऊपर धारा 188 के खिलाफ भी आरोप जोड़े गए हैं। महामारी ऐक्ट की धारा 217 के खिलाफ भी आरोप जोड़े गए हैं।

मध्य मार्च में तबलीगी जमात के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज में 67 देशों के 2041 जमाती आए थे। इनमें से 916 को दिल्ली पुलिस ने मरकज से निकालकर क्वारंटीन सेंटरों और अस्पतालों में भर्ती कराया था। बाकी विदेशी जमाती देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंच गए थे जहां उन राज्यों की पुलिस ने उन्हें पकड़कर उनके खिलाफ कार्रवाई की है। यूपी में तो पहले ही कुछ विदेशी जमातियों पर चार्जशीट दाखिल की जा चुकी है। दिल्ली में बड़ी तादाद में विदेशी जमाती कोरोना पॉजिटिव मिले। इलाज के बाद उन्हें क्वारंटीन सेंटरों में रखा गया था जिनमें से ज्यादातर से दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच पूछताछ कर चुकी है।

 
 

Related posts

Top