मेरठ में सीबीआई का छापा, रिश्वत लेते सीजीएसटी अधीक्षक गिरफ्तार, पांच लाख में तय हुआ था सौदा

 
  • ऑडिट सेल में तैनात अधीक्षक विकास कुमार ने आठ लाख की रिश्वत मांगी थी
  • पांच लाख में सौदा तय हुआ था
  • सीबीआई शुक्रवार को अधीक्षक को सीबीआई कोर्ट में पेश कर रिमांड मांग सकती है

सीबीआई ने गुरुवार रात तीन लाख रुपये रिश्वत लेते हुए सीजीएसटी के अधीक्षक को गिरफ्तार किया है। मेरठ जली कोठी स्थित सीजीएसटी कार्यालय की ऑडिट सेल में तैनात अधीक्षक विकास कुमार ने विद्युत ठेकेदार अजय कुमार से टैक्स की फाइल को क्लियर करने के बदले आठ लाख रिश्वत मांगी थी। पांच लाख में सौदा तय हुआ था।

अजय कुमार हस्तिनापुर थाना क्षेत्र के गांव तारापुर के रहने वाले हैं। उन्होंने बुधवार दोपहर गाजियाबाद के सीबीआई दफ्तर जाकर अधीक्षक विकास कुमार की शिकायत की। सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई की 10 लोगों की टीम दो गाड़ियों में गुरुवार सुबह मेरठ आ गई और जाल बिछाया। शाम करीब पांच बजे अजय को तीन लाख रुपये लेकर रिश्वत देने के लिए प्रथम तल पर सीजीएसटी के ऑडिट कार्यालय भेजा गया। रुपये देकर अजय वापस आए और सीबीआई को इसकी सूचना दी।

इसके बाद सीबीआई टीम ने कार्यालय में छापेमारी कर विकास कुमार को पकड़ लिया। उसने रिश्वत लेने से इंकार किया तो टीम ने वीडियो कैमरे का सामने उसके हाथ पानी में डलवाए तो उसके हाथों पर लगा रंग पानी में घुल गया। उनकी निशानदेही पर बाथरूम में लगे बिजली के स्विच बोर्ड के पीछे से रिश्वत की रकम बरामद कर ली। देर रात तक आरोपी से दफ्तर में ही पूछताछ की जा रही थी।

वहीं सीबीआई टीम ने आरोपी की पत्नी को भी दफ्तर बुलाया और बाद में छानबीन के लिए कंकरखेड़ा स्थित उनके आवास पर गई। टीम ने मौके से कुछ फाइलें भी जांच के लिए जब्त की है। सूत्रों का कहना है कि सीबीआई टीम अधीक्षक को देर रात गाजियाबाद ले जाएगी। सीबीआई शुक्रवार को अधीक्षक को सीबीआई कोर्ट में पेश कर रिमांड मांग सकती है।

 
 

Related posts

Top