मासूमों से बर्बरता… कानपुर में मौलाना ने किया दुष्कर्म, कुशीनगर और भोपाल में भी हैवानियत

 

नई दिल्ली: दिल्ली में निर्भया मामले के बाद सरकार की ओर से दुष्कर्म से जुड़े मामलों में किए गए बदलाव के बाद माना जा रहा था कि अपराधियों में खौफ पैदा होगा, लेकिन दुष्कर्म से जुड़ी वारदातों में लगातार इजाफा हो रहा है। अब तो बेटियां कहीं भी सुरक्षित नहीं हैं। वहीं, पुलिस की कार्यशैली और लापरवाही के कारण भी दुष्कर्मी बेखौफ घूम रहे हैं। रविवार को भी देश में कई जगह दुष्कर्म की वारदातें सामने आईं।

कानपुर : मौलाना ने मदरसे में किया किशोरी से दुष्कर्म, गिरफ्तार
आवास विकास हंसपुरम, नौबस्ता में रविवार सुबह मौलाना जावेद ने 15 वर्षीय किशोरी को घर से मदरसे में लाकर दुष्कर्म किया। दो घंटे बाद घर पहुंची किशोरी ने परिजनों को घटना की जानकारी। इसके बाद परिजन उसे लेकर थाने पहुंचे और मौलाना सहित तीन लोगों के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर आरोपी अकबरपुर (कानपुर देहात) निवासी मौलाना जावेद को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, दो अन्य के खिलाफ जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

पीड़िता ने बताया कि रविवार सुबह 5:30 बजे आरोपी मौलाना जावेद उसके घर पहुंचा। घर में मां से उसने बैंक का फार्म भरने की बात कही और उसे मदरसा लेकर आ गया। यहां एक कमरे में ले जाकर उससे दुष्कर्म किया। मदरसे में पढ़ाने वाली शिक्षिकाएं शिबा और आफदा परिसर में ही मौजूद थीं, लेकिन उन्होंने कोई मदद नहीं की।

सुबह 7:30 बजे घर पहुंचकर परिजनों को जानकारी दी तो वे मदरसा पहुंचे, लेकिन वहां ताला लगा था। इसके बाद परिजन पुलिस के पास गए। परिजनों ने मौलाना और आफदा पर रुपये लेकर मामला रफादफा करने का दबाव बनाने का भी आरोप लगाया है। उधर, आरोपी मौलाना ने थाने में पूछताछ में बताया कि पीड़िता 19 वर्ष की है। उसके परिवार के लोग झूठ बोल रहे हैं। उसने पीड़िता से निकाह किया है, जिसके बाद ही संबंध बनाए हैं।

आखिर 24 घंटे बाद दर्ज हुआ दुष्कर्म का मुकदमा, चार गिरफ्तार
अहिरौली बाजार (कुशीनगर) थाना क्षेत्र के एक गांव में शुक्रवार रात किशोरी के साथ अमानवीयता के मामले में पुलिस ने आखिर 24 घंटे के बाद छह लोगों के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया। इनमें से चार आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जबकि दो की तलाश की जा रही है।

घटना को लेकर पुलिस ने काफी हीलाहवाली की थी। एसपी के निर्देश पर शनिवार रात पुलिस ने मारपीट, नारी लज्जा भंग और दलित उत्पीड़न आदि का मुकदमा दर्ज किया था, लेकिन रविवार को पुलिस अधिकारियों ने पीड़ित परिवार और गांव के लोगों से बातचीत की। उसके बाद दुष्कर्म की धारा बढ़ाते हुए पुलिस ने चार नामजद आरोपियों चंदन प्रसाद, गौतम प्रसाद, जयवीर और बीरू यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

जांच में किशोरी के निजी अंग में चोट के निशान पाए गए हैं। इस मामले में पुलिस ने शुरुआती दौर में काफी लापरवाही बरती, लेकिन उच्चाधिकारियों के संज्ञान में आने और मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक होने के बाद अहिरौली बाजार पुलिस इस मामले में गंभीर हुई और पीड़ित के घर पहुंचकर उसका बयान लिया।

जालौन में आठ साल की बच्ची का अर्द्धनग्न शव मिला, दुष्कर्म की आशंका
कुठौंद (जालौन) थाना क्षेत्र के एक गांव में शनिवार शाम से लापता कक्षा दो की आठ साल की छात्रा का अर्द्धनग्न शव मिला है। दरिंदों ने बच्ची के गले पर उसके ही सलवार का फंदा बनाकर हत्या कर दी। ग्रामीणों ने दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताई है। सूचना पर एसपी स्वामी प्रसाद सहित पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और जानकारी ली। एसपी का कहना है कि अभी दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हो पाई है।

दुष्कर्म की आशंका पर स्लाइड बनवाई गई है। पिता की तहरीर पर पुलिस ने गांव के ही मोतीलाल (65) और जहर सिंह (55) के खिलाफ हत्या और साक्ष्य छिपाने का मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार दोनों का बच्ची के पिता से तीन-चार साल पुराना विवाद है। मामले में तफ्तीश की जा रही है।

हमीरपुर : बालिका से दुष्कर्म के बाद हत्या में एक गिरफ्तार
घर के बाहर शुक्रवार रात सो रही बालिका के साथ पड़ोसी युवक और अधेड़ ने सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। बालिका के पहचान लेने पर दरिंदों ने उसका गला घोंटकर हत्या कर दी थी। घटना का खुलासा करते हुए डीआईजी अनिल कुमार राय ने बताया आरोपी पप्पू खां (42) पुत्र हबीब को गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि दूसरे मुख्य आरोपी वीरू (26) पुत्र हरीबाबू की तलाश की जा रही है।

कुरारा थानाक्षेत्र के एक गांव में शनिवार सुबह 11 वर्षीय छात्रा का नग्न अवस्था में शव गांव के ही कब्रिस्तान के पास मिला था। बालिका से दुष्कर्म के बाद हत्या की पुष्टि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी हुई थी। डीआईजी ने कहा कि वारदात में और भी आरोपियों के शामिल होने से इनकार नहीं किया जा सकता। तफ्तीश की जा रही है।

भोपाल में 8 साल की मासूम के साथ हैवानियत के बाद हत्या
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कमलानगर इलाके में 8 साल की एक मासूम के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई। रविवार सुबह एक नाले में बच्ची का शव मिलने के बाद इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा हुआ। बच्ची शनिवार रात 8 बजे से लापता थी। आरोपी की तलाश जारी है। संवेदनहीनता के कारण छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

पुलिस ने बताया कि मृतका शनिवार रात 8 बजे एक दुकान से कुछ सामान लेने गई थी। काफी देर बाद जब वह नहीं लौटी तो घरवालों ने उसकी तलाश शुरू की। रात 9 बजे उसके माता-पिता पुलिस थाने पहुंचे। पुलिस ने रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया और कहा कि वह पास में ही कहीं खेल रही होगी। पुलिसकर्मियों ने यह भी कहा कि वह किसी के साथ भाग गई होगी। इसके बाद वे वापस लौट आए और रातभर उसे तलाशते रहे।

इलाके के पार्षद के हस्तक्षेप पर रात करीब 11:30 बजे तीन पुलिस कांस्टेबल बच्ची के घर पहुंचे। स्थानीय लोगों का कहना है कि दो कांस्टेबल शराब के नशे में थे और बच्ची के बारे में अभद्र भाषा बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने बच्ची के परिजनों से चाय और गुटखा देने की मांग की।

दुष्कर्म व गला दबाकर हत्या की पुष्टि
रविवार की सुबह जब नाले से बच्ची की लाश मिली तो उसके गले और हाथ पर निशान थे। फॉरेंसिक टीम ने मौके का मुआयना किया। उधर, पोस्टमार्टम के लिए बच्ची का शव जैसे ही हमीदिया अस्पताल पहुंचा, वहां परिजनों ने हंगामा किया। शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद गला दबाकर हत्या की पुष्टि हुई है। प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने बताया कि एक संदिग्ध की पहचान की गई है और उसकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।

उज्जैन में भी बच्ची से दुष्कर्म के बाद हत्या
भोपाल की तरह दो दिन पहले उज्जैन में भी 5 साल की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी और उसके शव को क्षिप्रा नदी में फेंक दिया था। पुलिस ने आरोपी शिवा मराठा (18 वर्ष) को गिरफ्तार कर लिया है। शिवा ने पुलिस को बताया कि वह मोबाइल पर पोर्न वीडियो देखता था और नशा भी करता था इसी कारण बृहस्पतिवार की रात बच्ची को उठा ले गया। बच्ची ने पहचान लिया, इसलिए हत्या कर दी।

टप्पल जा रही साध्वी प्राची को जेवर टोल पर रोका
साध्वी प्राची के रविवार को अलीगढ़ के टप्पल में मासूम बच्ची के परिजनों से मिलने जाने की सूचना मिलने पर जेवर व अलीगढ़ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी जेवर टोल पर पहुंच गए। दोपहर एक बजे जब साध्वी प्राची की कार जेवर टोल प्लाजा के बूथ नंबर एक पर पहुंची तो पुलिस ने चारों तरफ से घेर लिया। इसके बाद टोल रूम में करीब एक घंटे वार्ता करने के बाद साध्वी को वापस दिल्ली लौटना पड़ा।

साध्वी ने पुलिस व प्रशासन पर टप्पल नहीं जाने देने पर नाराजगी भी जताई। जेवर कोतवाली के प्रभारी सुरेंद्र सिंह भाटी व सीओ शरदचंद शर्मा ने ग्रेटर नोएडा तक साध्वी प्राची को छोड़ा। उनके जाने के बाद पुलिस व प्रशासन ने राहत की सांस ली।

मुख्यमंत्री से बात करने के बाद ही लौटीं
साध्वी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से फोन पर बात की। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार से मुलाकात और कार्रवाई को लेकर सोमवार को लखनऊ बुलाया है।

सरेआम फांसी की सजा से कम कुछ भी मंजूर नहीं
साध्वी ने कहा कि मासूम की हत्या के आरोपियों को फांसी की सजा दी जानी चाहिए। उससे कम कोई सजा मंजूर नहीं होगी। प्रदेश भर में मासूमों के साथ हाल में हुई सभी घटनाओं में एक ही समुदाय के लोगों के आरोपी होना सामने आया है। ऐसे में इन आरोपियों को पेट्रोल डालकर चौराहे पर जिंदा जलाया जाए, तभी उन्हें अपने किए का अहसास होगा।

24 घंटे में दें आरोपियों को सजा
साध्वी ने कहा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट नाम देने से काम नही चलने वाला है। ऐसे घिनौने कृत्यों में फास्ट ट्रैक कोर्ट सजा सुनाने तक सुनवाई करें। ऐसे कानून बनना चाहिए जिससे आरोपियों को 24 घंटे में सजा मिल सके। इस घटना की आवाज सड़क से लेकर सांसद तक उठाई जाएगी।

आंधे घंटे तक वाहनों की लगी कतार
जिस समय साध्वी प्राची की गाड़ी को टोल प्लाजा पर रोका गया, उसके पीछे चल रहे अन्य वाहन भी रुक गए। पीछे से पंजाब से ग्वालियर जा रहे किसानों की बोलेरो कार आगे वाले वाहन से टकरा गई। इससे चालक व किसानों में बहस हो गई। बाद में किसानों ने सात हजार रुपये दिए।

जाते समय आगे की गाड़ी का चालक बोलेरो की चाबी निकालकर भाग गया। उसकी वजह से इस टोल पर अन्य वाहन नहीं गुजर सके। साध्वी के काफिले के वाहनों के कारण दो टोल पहले से ही बंद रहे। तीन टोल गेट बंद होने से वाहनों की कतार लग गई। आधे घंटे बाद स्थिति सामान्य हुई।

यूपी बनता जा रहा अपराध प्रदेश : अखिलेश
सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में यूपी अपराध प्रदेश बनता जा रहा है। भाजपा ने देश ही नहीं दुनिया में प्रदेश की बदनामी करा दी है। राज्य सरकार अपराधों पर नियंत्रण करने में पूरी तरह विफल रही है। न तो प्रदेश से अपराधी बाहर गए हैं और न ही जेल जाने का उन्हें कोई भय है। माफिया और अफसरशाही के गठजोड़ से अपराधियों के धंधे बेरोकटोक फल-फूल रहे हैं। रेप जैसे जघन्य अपराध पर भी सरकार के मंत्री शर्मनाक व विवादास्पद बयान दे रहे हैं।

अखिलेश यादव ने रविवार को एक बयान में कहा कि प्रदेश में जघन्य अपराधों की बाढ़ आना चिंताजनक है। अलीगढ़ के टप्पल गांव में ढाई वर्ष की मासूम के साथ दरिंदगी की दिल दहलाने वाली घटना अभी भूली भी नहीं थी कि हमीरपुर के थाना कुरारा क्षेत्र में पांचवीं कक्षा की छात्रा का 7 जून को अपहरण व सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या की खबर ने झकझोक दिया। बरेली के भोजीपुरा क्षेत्र में 8 साल की बच्ची हैवानियत का शिकार हुई तो वाराणसी के मध्यमेश्वर इलाके में 10 साल की बच्ची बलात्कार की शिकार बनी।

सपा अध्यक्ष ने कहा, नारी सशक्तीकरण और बेटी बचाओ के कथित अभियान चलाकर बड़े-बड़े दावे करने वाली भाजपा सरकार में महिलाएं और बच्चियां ही सबसे ज्यादा अमानवीय स्थितियों से गुजरने को मजबूर हैं। समाजवादी सरकार ने अपराध स्थल पर तत्काल पहुंचने के लिए यूपी 100 डायल सेवा और महिला सुरक्षा के लिए 1090 सेवा शुरू की थी। भाजपा ने अपने शासन काल में इन्हें बर्बाद कर दिया।

उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनावों के बाद प्रदेश में अपराधों का ग्राफ  बढ़ने से जनजीवन असुरक्षित हो गया है। लोग डरे-सहमे हैं। भाजपा नेताओं के अहंकार और विद्वेषपूर्ण आचरण के चलते प्रशासन पंगु हो गया है। पुलिस बल का मनोबल बुरी तरह से गिर चुका हैं। बची-खुची कसर वे तत्व पूरी कर रहे हैं जो समाज में नफरत पैदाकर प्रदेश के वातावरण को विषाक्त बनाए रखना चाहते हैं।

 

 
 

Related posts

Top