उत्तरकाशी: राहत सामग्री बांटकर वापस लौट रहा हेलीकॉप्टर क्रैश, तीन की मौत, 15 लाख मुआवजे का एलान

 

उत्तरकाशी के आराकोट में राहत सामग्री पहुंचा कर लौट रहा एक हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया है। जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई है।

बता दें कि 17 अगस्त की रात उत्तरकाशी के आराकोट गांव में बादल फटने के बाद तबाही मच गई थी। जानकारी के मुताबिक उक्त हेलीकॉप्टर आराकोट में राहत सामग्री वितरित कर वापस लौट रहा था और इसी दौरान वह कृषि उत्पादों को लाने के लिए बनाए गए रोपवे की तारों से उलझकर पहाड़ी से टकराया और क्रैश हो गया।

हेलीकॉप्टर में पायलट रंजीव लाल, को-पायलट सैलेश और एक स्थानीय वालंटियर राजपाल राणा सवार थे। हेलीकॉप्टर हैरिटेज कंपनी का है और मोल्डी में क्रैश हुआ है। राहत-बचाव कार्य के लिए आराकोट से बचाव दल के साथ एक हेलीकॉप्टर हादसे वाली जगह भेज दिया गया है। सूचना पर उत्तरकाशी जिला प्रशासन की टीम मौके के लिए रवाना हो गई।

मुख्यमंत्री ने किया 15-15 लाख रुपए मुआवजे का एलान

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस घटन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि ‘उत्तरकाशी के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्री ले जा रहे हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर दुःखद है। ईश्वर से मृतात्माओं की शांति व उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं।’ मुख्यमंत्री ने कहा कि हेलीकॉप्टर हादसे में मृतकों को 15-15 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। फिलहाल हेली ऑपरेशन रोक दिया गया है। शवों को जहां परिजन कहेंगे पहुंचा दिया जाएगा।

उत्तरकाशी के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में राहत सामग्री ले जा रहे हेलिकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने की खबर दुःखद है। ईश्वर से मृतात्माओं की शांति व उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की प्रार्थना करता हूं

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि मोल्डी गांव के पास हेलीकॉप्टर क्रैश हुआ है जो आपदा राहत सामग्री छोड़ने के बाद वापस आराकोट आ रहा था। हादसे में तीन लोगों के मौत की सूचना मिल रही है। टीम मौके पर पहुंच चुकी है।

15 शव बरामद, मलबे में दबे दिखे हैं दो शव

आराकोट क्षेत्र में आई आपदा में मृतकों की संख्या 17 तक पहुंच गई हैं। सोमवार तक 11 शवों की तलाश के बाद रेस्क्यू टीमों ने मंगलवार को माकुड़ी से एक और हिमाचल बॉर्डर पर स्थित सनेल से तीन शव बरामद किए।

इन सभी की शिनाख्त भी कर ली गई है। इसके अलावा दो शव टिकोची में मलबे में दबे दिखाई दिए हैं। आपदा में लापता अन्य लोगों की खोजबीन जारी है। बीते रविवार तड़के आराकोट क्षेत्र के गांवों में जलप्रलय के बाद से यहां खोज एवं बचाव कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। आईटीबीपी, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ एवं आपदा प्रबंधन की टीमें आपदा प्रभावित गांवों तक पहुंच कर राहत एवं खोज कार्यों में जुटी हैं।

सनेल गांव से तीन शव बरामद हुए

सोमवार तक 11 शवों की तलाश के बाद मंगलवार को फिर माकुड़ी, टिकोची, सनेल और आराकोट में खोज अभियान चलाया गया। इस दौरान माकुड़ी में मलबे में से नेपाली मजदूर लाल बहादुर (50) का शव बरामद हुआ है, जबकि सनेल गांव से तीन शव बरामद हुए।

इनकी शिनाख्त रामप्रसाद (71) पुत्र सुखराम निवासी सनेल तथा संजोग (10) पुत्र सागर व सुनील कुमार(30) पुत्र जीतू कुमार निवासी चिल्ला गांव हिमाचल प्रदेश के रूप में हुई। ऐसे में अभी तक कुल 15 शव बरामद हो गए हैं। टिकोची में दो लोगों के शव मलबे में दबे हुए दिखे हैं। रेस्क्यू टीमें इन शवों को निकालने की कोशिश में जुटी हैं।

Content retrieved from: https://www.amarujala.com/dehradun/uttarkashi-disaster-food-material-carrying-helicopter-crash.

 
 

Related posts

Top