दिल्ली की सीमा में घुसने के लिए बैरिकेडिंग पर चढ़े किसान, जमकर नारेबाजी

 

पिछले साल हुई किसान क्रांति पदयात्रा की बरसी मनाने के लिए भारतीय किसान यूनियन के कुछ कार्यकर्ता यूपी गेट पर पहुंच गए हैं और उन्होंने दिल्ली की सीमा में घुसने के लिए बैरिकेडिंग पर चढ़कर नारेबाजी भी की। वहीं भाकियू की मेरठ शाखा का कहना है कि जिले से भी सैकड़ों किसान यूपी गेट पहुंचे हैं और आगामी आंदोलन की रणनीति बनाएंगे। वहीं कई राज्यों से भारी संख्या में किसानों के पहुंचने की संभावना है।

भाकियू ने किसानों की मांगों को लेकर पिछले साल सितंबर में हरिद्वार से लेकर दिल्ली किसान घाट तक किसान क्रांति पदयात्रा शुरू की थी। 10 दिन चलकर यात्रा को 2 अक्तूबर को दिल्ली में प्रवेश करना था। कई राज्यों के किसान पैदल एक अक्तूबर को यूपी गेट पहुंच गए थे।

केंद्र सरकार के आदेश पर दिल्ली पुलिस ने यूपी गेट पर ही किसानों को रोक दिया था। किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़ दी थी और हंगामा किया था। पुलिस ने पानी की बौछार के साथ किसानों पर आंसू गैस के गोले दागे थे। कई किसान घायल भी हुए थे।

किसानों को समर्थन देने पहुंचे रालोद मुखिया चौधरी अजित सिंह तो बेहोश हो गए थे। भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत, राष्ट्रीय महासचिव युद्धवीर सिंह पूर्व केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिले थे।

आश्वासन मिलने के बाद यूपी गेट से ही किसान लौट आए थे। मंगलवार को भाकियू के पूर्व जिलाध्यक्ष गजेंद्र दबथुआ ने बताया कि बुधवार को सत्यवीर जंगेठी, बबलू जिटौली, नरेश चौधरी, मनोज त्यागी, निशांत त्यागी, राजकुमार करनावल, महकार सिंह, संजय दौरालिया, रवींद्र दौरालिया समेत मेरठ से सैकड़ों किसान यूपी गेट पहुंचेंगे और विरोध जताएंगे।

 
 

Related posts

Top