कर्नाटक संकट: सुप्रीम कोर्ट का आदेश- विधायकों के इस्तीफे पर आज ही फैसला लें स्पीकर

 
  • कर्नाटक में चल रहे सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट का सख्त आदेश
  • स्पीकर को बागी विधायकों के इस्तीफे पर आज ही फैसले का निर्देश
  • अदालत ने विधायकों से शाम छह बजे तक स्पीकर से मिलने को कहा
  • कर्नाटक के डीजीपी को विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराने का आदेश

नई दिल्ली/ बेंगलुरु: कर्नाटक में चल रही सियासी लुकाछिपी पर सुप्रीम कोर्ट ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। सर्वोच्च अदालत ने राज्य के स्पीकर केआर रमेश कुमार से आग्रह किया है कि वह कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों के इस्तीफे के मामले में आज ही फैसला लें। इसके साथ ही बागी विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराने का भी आदेश दिया गया है, जो कोर्ट के निर्देश पर आज शाम 6 बजे स्पीकर से मिलेंगे। मामले की सुनवाई शुरू होते ही बेंच ने स्पष्ट किया कि वह सिर्फ उन 10 विधायकों के मामले में आदेश पारित कर रही है जो हमारे सामने हैं, अन्य के लिये नहीं। कर्नाटक विधानसभा के 13 सदस्यों – कांग्रेस के 10 और जद(एस) के तीन- ने छह जुलाई को सदन की सदस्यता से अपने-अपने त्यागपत्र विधानसभा अध्यक्ष के कार्यालय को सौंपे थे। आपको बता दें कि 16 विधायकों के इस्तीफे के बाद राज्य में एचडी कुमारस्वामी की अगुआई वाली कांग्रेस-जेडीएस सरकार संकट में घिरी हुई है।

और समय की मांग कर रहे स्पीकर को सुप्रीम कोर्ट से झटका
सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों को स्पीकर के यहां पेश होने और स्पीकर को इस्तीफों पर आज ही फैसला लेने को कहा। बाद में कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर के. आर. रमेश कुमार भी सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए। उन्होंने याचिका दाखिल कर कोर्ट से इस्तीफों पर फैसले के लिए कुछ और समय देने की मांग की। हालांकि, कोर्ट ने उनकी याचिका पर तत्काल सुनवाई से इनकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सुबह हमने इस मामले की सुनवाई के लिए कल की तारीख तय की है। अभी इससे जुड़ी कोई सुनवाई नहीं होगी।

ऐसा देखा जा रहा था कि स्पीकर मामले को लटकाने की कोशिश कर रहे थे। एक दिन पहले स्पीकर रमेश कुमार ने कहा था कि उन्होंने अभी तक किसी भी विधायक का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। उन्होंने कहा, ‘मैंने किसी भी विधायक का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया और न ही मैं रातों रात ऐसा कर सकता हूं। मैंने सभी को 17 जुलाई को मिलने के लिए बुलाया है और प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही कोई फैसला लूंगा।’ इससे साफ था कि अगले कुछ दिनों तक कर्नाटक संकट और चलता। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद सीन बदल गया है।

शाम 6 बजे तक स्पीकर से मिलें बागी विधायक
सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को विधायकों की अपील पर सुनवाई करते हुए आदेश दिया कि इस्तीफा दे चुके विधायक बेंगलुरु पहुंचें और शाम छह बजे तक स्पीकर रमेश कुमार के सामने हाजिर हों। इसके साथ ही अदालत ने निर्देश दिया है कि विधायकों के इस्तीफे पर स्पीकर को आज ही फैसला लेना होगा। अदालत ने उनको इस्तीफे पर आदेश जारी करने को कहा है। आदेश की कॉपी जमा होने के बाद शुक्रवार को एक बार फिर मामले पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा। बता दें कि बागी विधायक पिछले कुछ दिनों से मुंबई के एक होटल में रुके हुए हैं।

बागी विधायकों को सुरक्षा दें डीजीपी: कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में बागी विधायकों से कहा है, ‘कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर से शाम छह बजे मिलिए और अगर आपकी इच्छा इस्तीफा देने की है तो उन्हें (स्पीकर को) सौंप दीजिए।’ अदालत ने कहा है कि दिन के बाकी बचे वक्त में स्पीकर को अपना फैसला लेना होगा। साथ ही कोर्ट ने कर्नाटक के डीजीपी को आदेश दिया है कि सभी बागी विधायकों को सुरक्षा मुहैया कराई जाए।

उधर कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने कहा है, ‘हमें विश्वास है कि विधायक हमारे साथ आएंगे। मुझे उम्मीद है कि वे लौट आएंगे और अपना इस्तीफा वापस ले लेंगे।’

दो और विधायकों ने दिया था इस्तीफा
इससे पहले राज्य सरकार में दो बड़े मंत्रियों एम टी बी नागराज और के सुधाकर ने अपनी विधानसभा सदस्यता और पद से त्यागपत्र दे दिया। इससे कांग्रेस-जेडीएस सरकार के असंतुष्‍ट विधायकों की संख्‍या 16 हो गई है जबकि विधानसभा में उनकी संख्‍या 118 से घटकर अब 100 पहुंच गई है। राज्‍य में सरकार बचाए रखने के लिए जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन को 105 के जादुई आंकड़े की जरूरत है।

गुरुवार को बागी विधायकों से मिलने के लिए कांग्रेस के संकटमोचक डीके शिवकुमार भी मुंबई पहुंचे थे लेकिन उन्हें होटल में एंट्री नहीं मिली थी। पुलिस ने शिवकुमार और मिलिंद देवड़ा समेत कई कांग्रेसी नेताओं को हिरासत में लिया था। बाद में शिवकुमार को रिहा करते हुए बेंगलुरु भेज दिया गया था। उधर बेंगलुरु लौटे एक बागी कांग्रेस विधायक एसटी सोमशेखर ने कहा है कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है लेकिन अभी कांग्रेस छोड़ी नहीं है।

क्या है बहुमत का गणित
कर्नाटक विधानसभा का सत्र 5 दिन बाद शुरू होने वाला है। 224 सदस्‍यीय विधानसभा में कांग्रेस के 13 और जेडीएस के 3 विधायकों ने इस्‍तीफा दे दिया है। इसके अलावा दो निर्दलीय विधायकों ने कुमारस्‍वामी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। अगर सभी 16 विधायकों के इस्‍तीफे को स्‍पीकर स्‍वीकार कर लेते हैं तो विधानसभा की संख्‍या घटकर 208 पहुंच जाएगी और बहुमत के लिए 105 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी।

इस बीच बीजेपी के प्रदर्शन के बाद 11 से 14 जुलाई तक राज्‍य विधानसभा के आसपास धारा 144 लागू कर दी गई है। इसके तहत इलाके में चार से अधिक लोग एक साथ इकट्ठा नहीं हो सकते हैं।

कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर केआर रमेश कुमार (फाइल)

कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर केआर रमेश कुमार

 

 
 
Top