चंद्रबाबू नायडू ने दिया 500 और 2000 रुपये के नोटों को बंद करने का सुझाव

 

अमरावती: डिजिटल इकॉनमी पर सुझावों के लिए गठित मुख्यमंत्रियों के पैनल के मुखिया चंद्रबाबू नायडू ने 500 और 2000 रुपये के नोटों को बंद करने का सुझाव दिया है। नायडू ने कहा कि डिजिटल पेमेंट्स को बढ़ावा देने के लिए ऐसा किया जाना जरूरी है। नायडू ने शनिवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘मैं पहला व्यक्ति था, जिसने 1000 और 500 रुपये के नोटों को बंद किए जाने की मांग की थी। लेकिन, अब 2000 और 500 रुपये के नोट लाए गए हैं। इन्हें भी हटाया जाना चाहिए।’

विशाखापत्तनम पुलिस की ओर से एक हवाला रैकेट का पर्दाफाश किए जाने को लेकर नायडू ने यह बात कही। हवाला रैकेट का जिक्र करते हुए नायडू ने कहा, ‘आश्चर्यजनकर रूप से हवाला रैकेट के जरिए 1,379 करोड़ रुपये की रकम देश के बाहर भेज दी गई। नोटबंदी के बाद मैंने आरबीआई से कहा था कि वह आंध्र प्रदेश के लिए ज्यादा रकम भेजें। इस पर आरबीआई के डेप्युटी गवर्नर ने कहा था कि पैसा आंध्र प्रदेश आ रहा है, लेकिन उसके बाद पता नहीं कहां चला जा रहा है। अब हमें पता चला कि पैसा कहां जा रहा है।’

बिना नाम लिए वाईएसआर कांग्रेस चीफ जगनमोहन रेड्डी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘इन ट्रांजैक्शंस के लिए कई फर्जी कंपनियां बनाई गई थीं। कुछ गुमनाम लोगों के द्वारा इस पूरे काम को अंजाम दिलाया गया। इन सबके लिए आखिर कौन रोल मॉडल था।’

Chandrababu Naidu suggests discontinuing notes of 500 and 2000 rupees
 
 

Top