ज्योतिष आलेख articles

" "

रात को सोते समय सिरहने पर न रखें पानी के पात्र, रहता है मनोरोग का खतरा

रात को सोते समय सिरहने पर न रखें पानी के पात्र, रहता है मनोरोग का खतरा

रात में अच्छी नींद से जहां एक तरफ शारीरिक थकान मिटती है वहीं दूसरी तरफ मानसिक शान्ति भी मिलती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसी चीजें बताई गई हैं जिन्हे रात को सोते समय सर के पास नहीं रखना चाहिए। इस वस्तुओं को सिरहने पर रखने से नकारात्मकता हावी होती है। हम आपको बतातें

कुंडली में ये योग हो तो आप कम मेहनत के बावजूद बन सकते हैं धनवान और प्रसिद्ध,

कुंडली में मंगल की शुभ स्थिति से धन लाभ और प्रसिद्धि मिलती है। आपकी कुंडली में मंगल की अशुभ स्थिति जहां धन हानि और असफलता देती है वहीं शुभ स्थिति के कारण कम समय में बड़ा पद और अचानक धन लाभ भी होता है। ऐसा किसी की जन्म कुंडली में बनने वाले पंचमहापुरुष योग में

नव संवत्सर के राजा शनि, मंत्री सूर्य, चैत्र नवरात्र में 5 सर्वार्थ सिद्धि व रवि पुष्य योग

भोपाल: नव विक्रम संवत्सर 2076 का शुभारंभ गुड़ी पड़वा पर 6 अप्रैल शनिवार को रेवती नक्षत्र में होगा। परिधावी नाम के इस संवत्सर के राजा शनि व मंत्री सूर्यदेव होंगे। ज्योतिषियों ने परिधावी नाम को अति शीघ्रता से अनुसरण करने वाला बताया है। इसी दिन चैत्र प्रतिपदा भी रहेगी और नवरात्र महोत्सव भी शुरू होगा।

हथेली में रेखाओं से त्रिकोण का बनना होता है शुभ, ये हैं 5 शुभ संकेत

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली की रेखाओं और बनावट के साथ ही अलग-अलग चिह्नों से भी भविष्य के बारे में कई महत्वपूर्ण मालूम हो सकती हैं। किसी भी व्यक्ति की हथेली देखकर ये मालूम हो सकता है कि जीवन में धन लाभ और सम्मान मिलेगा या नहीं। उज्जैन की हस्तरेखा विशेषज्ञ डॉ. विनिता नागर के

जिस महिला के हाथ में होती है कमल या मछली जैसी आकृति, उसका वैवाहिक जीवन रहता है सुखमय

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली में कुछ खास निशान होते हैं जो हर इंसान के भविष्य में होने वाली अच्छी-बुरी बातों का संकेत देते हैं। हस्तरेखा शास्त्र में स्त्रियों के हाथों में बनने वाले निशानों के बारे में भी बताया गया है। इसके अनुसार भाग्यशाली स्त्रियों के हाथों में कुछ खास शुभ निशान होते हैं।

mata rani

गुप्त नवरात्र में पांच बार रवियोग, दो बार सर्वार्थसिद्धि योग और पंचक से शुरुआत

5 फरवरी मंगलवार को माघ मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से गुप्त नवरात्रि (Gupt Navratra) की शुरुआत हो रही है। इस गुप्त नवरात्रि में कई शुभ योग-संयोग बन रहे हैं, जो साधक और देवी की आराधना करने वालों को कई गुना अधिक शुभ फल प्रदान करने वाले हैं। इस गुप्त नवरात्रि के 10

अमावस्या का उपवास करता है पितरों को तृप्त और प्रसन्न, जानिए 8 काम की बातें

हिन्दू धर्म में बेहद महत्वपूर्ण है अमावस्या, इन जातकों को अवश्य करना चाहिए अमावस्या का उपवास… 1 . प्राचीन शास्त्रों के अनुसार अमावस्या तिथि के स्वामी पितृदेव हैं, अत: पितरों की तृप्ति के लिए इस तिथि का अत्यधिक महत्व है। 2. हिन्दू धर्म में अमावस्या तिथि का अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान है। 3. अमावस्या का दिन

4 जुलाई को शुक्र का सिंह राशि में आगमन, क्या होगा हम सब पर असर, पढ़ें 12 राशियां

मेष : विद्यार्थियों के लिए समय लाभदायक रहने के आसार बन रहे हैं। मान-सम्मान में वृद्धि के योग बन रहे हैं। जो विवाहित जातक लंबे समय से संतान प्राप्ति के लिये प्रयासरत हैं उन्हें भी सफलता मिल सकती है। वृषभ : समय आपके लिए घर, वाहन आदि का सुख मिलने के योग बना रहा है।

भविष्यवाणी: मोदी एक बार फिर बनेगे देश के प्रधानमंत्री, 2024 में हो सकता है पाकिस्तान से युद्ध

हैदराबाद के ज्योतिषी ने भविष्यवाणी की है दक्षिण भारतीय फिल्मों के सुपर स्टार रजनीकांत तमिलनाडु के अगले मुख्‍यमंत्री बन सकते हैं, जबकि नरेन्द्र मोदी एक बार फिर प्रधानमंत्री पद पर काबिज हो सकते हैं। ज्योतिषी डी. ज्ञानेश्वर की यह भविष्यवाणी टाइम्स ऑफ इंडिया ने प्रकाशित की है। ज्ञानेश्वर ने गत रविवार को यह भविष्यवाणी की

बन गया है बुधादित्य योग, इन 5 राशियों को मिल सकता है राजयोग का सुख

वैसे तो नवग्रहों के राजा हर महीने अपनी राशि परिवर्तित करते हैं। सूर्य जब एक महीने के अंतराल पर एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करते हैं तो सभी राशियों पर इसका प्रभाव पड़ता है। लेकिन इस बार सूर्य का राशि परिवर्तन बहुत खास है। सूर्य ने 15 जून 2018 को वृष राशि से

भविष्यवाणी: येदियुरप्पा की कुंडली में चल रही है शनि की साढ़ेसाती, कुर्सी बचना मुश्किल

कर्नाटक में मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण के बाद सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई हुई। मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम के जजों ने शनिवार शाम चार बजे विधानसभा में बहुमत परीक्षण कराने का आदेश दिया। इस फैसले के बाद बीजेपी को बहुमत साबित करने के लिए अब 14 दिनों का समय नहीं मिलेगा।

वृषभ राशि में आए सूर्य, किस राशि के लिए शुभ, किसके लिए अशुभ

मंगलवार, 15 मई 2018 को वृषभ राशि में सूर्य ने प्रवेश कर लिया है। आइए जानें किस राशि के लिए यह स्थिति शुभ होगी, किसके लिए अशुभ… मेष राशि वालों के लिए आर्थिक मामलों में प्रतिकूल रहेगा। धन-संपत्ति में वृद्धि के लिए भरपूर मेहनत करना होगी। कुटुम्ब के मामलों में संभलकर चलना होगा। किसी भी

Subh Sanyog

मई 2018 के शुभ योग-संयोग जानिए…

कार्य-सिद्धि योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी नए कार्य को शुरू करने से पहले शुभ योग-संयोग को देख-परख लेना श्रेष्ठ होता हैं। अगर आपको किसी भी माह में नया कार्य आरंभ करना हो तो शुभ योग-संयोग देखकर किया जाए तो सफलता निश्चित रूप से मिलती है। आपके लिए प्रस्तुत हैं

इन राशियों पर बरसता है शनि और मंगल का प्रेम, शनिदेव नहीं देते कोई कष्ट

7 मार्च 2018 से शनि और मंगल एक ही राशि में वास करने लगे हैं। यह दोनों क्रूर ग्रह 2 मई 2018 तक साथ रहेंगे। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार शनि पापी ग्रह है तो मंगल आग का कारक ग्रह। इन दोनों का मिलन किसी विस्फोट से कम खतरनाक नहीं है। एक ही राशि में एकसाथ

Rashifal

खतरनाक है शनि-मंगल युति, खून-खराबा, प्राकृतिक आपदाओं व अमंगल घटनाएं घटित होने का संकेत

भारतीय ज्योतिष की अपनी विशेषता है। जब दो या दो से अधिक ग्रहों का एक राशि में गोचर हो तो यह किसी भी शुभ या अशुभ योग, ऋण आदि का निर्माण करता है। साथ ही ऐसी स्थिति में दो ग्रहों का स्थान संबंध या परस्पर दृष्टि होने से ब्रह्मांड पर इसका कोई न कोई विशेष

जरूर अपनाइए क्रोध को कंट्रोल करने के ये एस्ट्रो टिप्स

गुस्सा करना या क्रोध इंसान की प्रगति का बहुत बड़ा दुश्मन है। अपने गुस्से की वजह से इंसान बड़े-बड़े नुकसान कर डालता है। क्रोध के कारण उसकी सामाजिक क्षति तो होती ही है वो रिश्तों और पैसों से भी हाथ धो बैठता है। गुस्सा करने वाले इंसान से लोग दूरियां बना लेते हैं और पीठ

मनचाही नौकरी चाहिए, तो राशि अनुसार करें ये उपाय

धार्मिक अनुष्ठान हो या पूजा-पाठ, कोई मांगलिक कार्य हो या देवों की आराधना, सभी शुभ कार्यों में पहले कुंडली और राशि का मिलना बेहद जरूरी माना जाता है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि आपकी राशि और ग्रह आपकी नौकरी लगवा भी सकती है और आपसे छीन भी सकती है. आखिर ऐसा क्यों होता

मंगल का राशि परिवर्तन, क्या होगा असर?

मंगल ने 15 सितंबर की रात 9 बजकर 40 मिनट पर अपनी राशि परिवर्तित कर ली है।  मंगल एक नैसर्गिक पाप ग्रह है। अपनी स्थिति से चौथे, सातवें और आठवें स्थान को पूर्ण दृष्टि से प्रभावित करता है। मंगल अपनी स्वराशि मेष व वृश्चिक के अलावा अपनी उच्च राशि मकर के अलावा मित्र राशि धनु

24CityNews

Top