धार्मिक आलेख articles

" "
ShriGanesh Mahraj

विघ्न विनाशक श्रीगणेश दूर करेंगे सभी तरह के वास्तु दोष

विघ्न विनाशक श्रीगणेश दूर करेंगे सभी तरह के वास्तु दोष

भगवान श्रीगणेश को विघ्न विनाशक कहा गया है। किसी भी व्रत या अनुष्ठान में सबसे पहले श्रीगणेश जी का पूजन ही किया जाता है। भगवान गणेश की वंदना कर सभी प्रकार के वास्तु दोषों को दूर किया जा सकता है। नियमित रूप से श्रीगणेश जी की आराधना से वास्तु दोष दूर हो जाते हैं। घर

Hanuman Jayanti 2019: हनुमान चालीसा की चौपाई में है सूर्य और पृथ्वी के बीच दूरी का गणित

24 सिटि न्यूज़: वैज्ञानिको ने कई वर्षों पहले रिसर्च करके सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी का आंकलन किया था। वैज्ञानिको के अनुसार सूर्य और पृथ्वी के बीच की दूरी करीब 15 करोड़ किलोमीटर है। लेकिन सैकड़ों साल पहले ही तुलसीदास द्वारा लिखी गई हनुमान चालीसा के एक दोहे में यह बता दिया था

काले रंग का नहीं होना चाहिए घर का मेन गेट, नहीं तो हो सकता है पैसों का नुकसान

कुछ घरों में हमेशा किसी न किसी बात पर विवाद होता रहता है या उस घर में अक्सर लोग बीमार रहते हैं। इन सभी बातों का कारण वास्तु दोष भी हो सकते हैं। कुछ आसान बातें ध्यान रख इन वास्तु दोषों से बचा जा सकता है। ये हैं 5 ऐसे वास्तु दोष जिनकी वजह से

दीपक जलाते समय बोलना चाहिए 1 मंत्र, इससे घर में बनी रहती है सुख-समृद्धि

हिंदू धर्म में किसी भी शुभ कार्य से पहले दीपक जलाया जाता है। सुबह-शाम होने वाली पूजा में भी दीपक जलाने की परंपरा है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, दीपक जलाते समय 1 मंत्र बोलना चाहिए-मंत्र दीपज्योति: परब्रह्म: दीपज्योति: जनार्दन:। दीपोहरतिमे पापं संध्यादीपं नामोस्तुते।। शुभं करोतु कल्याणमारोग्यं सुखं सम्पदां। शत्रुवृद्धि विनाशं च

महाभारत युद्ध के बाद फिर बनी थी भयानक ग्रह-स्थिति, जिससे खत्म हो गया था श्रीकृष्ण का वंश

महाभारत युद्ध में कौरवों के मारे जाने पर श्रीकृष्ण को उस लड़ाई का जिम्मेदार मानते हुए गांधारी ने श्राप दिया था कि तुम भी अपने परिवार और कुल के लोगों के साथ मारे जाओगे। महाभारत युद्ध के बाद इस श्राप के कारण ही द्वारका में भयंकर अपशकुन होने लगे थे। उस समय श्रीकृष्ण ने देखा

16 संस्कारों में से एक है विवाह, इसमें निभाई जाती हैं अनेक परंपराएं, 7 वचन के बाद ही संपूर्ण माना जाता है विवाह

हिंदू धर्म में विवाह को 16 संस्कारों में सबसे प्रमुख माना गया है। विवाह के दौरान वर-वधू को अनेक परंपराओं का पालन करना पड़ता है, उनमें से सात फेरे और सात वचन भी प्रमुख हैं। विवाह के दौरान वधू अपने वर से 7 वचन मांगती है। उसके बाद ही विवाह संपूर्ण माना जाता है। आज

चाणक्य नीति में बताए गए हैं दुश्मनों से निपटने के लिए 2 खास तरीके

चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने दुष्टों यानी शत्रुओं से निपटने के तरीके बताए हैं। चाणक्य की ये नीति आज के समय में हर इंसान के लिए काम की है। जिसकी मदद से कामकाज और तरक्की में आ रही रुकावटें दूर हो जाएगी। जो लोग नौकरी, बिजनेस या अन्य कामों में बार-बार रुकावटें पैदा करते

पति-पत्नी के साथ पूजा करने से संतानेश्वर महादेव देते हैं संतान सुख का वरदान

भारत में कई मंदिर ऐसे हैं, जिनके लिए मान्यता प्रचलित है कि इन मंदिरों में भगवान भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करते हैं। ऐसा ही एक मंदिर काशी यानी वाराणसी में है। ये मंदिर है संतानेश्वर महादेव का। इन्हे संतान सुख देने वाला माना गया है। यहां संतान की चाह में पति-पत्नी पहुंचते हैं, और भगवान

इंसान के पतन का कारण बनती हैं ये 10 बुरी आदतें, हो जाता है धन का नाश

जीवन के तमाम सुख और ऐश्वर्य प्रदान करने वाली देवी मां लक्ष्मी को लेकर हर किसी की चाहत होती है कि वो उसके घर में स्थायी रूप से रहें और उसका धन का भंडार दिन दुगुना रात चौगुना होता रहे। धन की देवी उसी के घर में टिकती हैं, जिनके यहां पवित्रता होती है। जो

Neelkantheshwar Temple: Bhagwan Bholenath miracle

नीलकंठेश्वर मंदिर: भोलेनाथ का चमत्कार देख लौट गई थी औरंगजेब की सेना

ललितपुर (यूपी) शहर से करीब 25 किलोमीटर दूर विंध्याचल पर्वत श्रेणी पर स्थित नीलकंठेश्वर मंदिर बहुत ही अद्भुत एवं अद्वतीय है। ऐसा माना जाता है कि यह मंदिर बहुत ही चमत्कारिक है। औरंगजेब के सैनिक ने नीलकंठेश्वर की प्रतिमा को खंडित करने के लिए तलवार से प्रहार कर दिया था। जिससे प्रतिमा को चोट लगने

पंडित सतेन्द्र शर्मा

पितृपक्ष आज से प्रारंभ, जानें श्राद्ध की विधियां

हिन्दू धर्म में माता-पिता और पूर्वजों को देवता का दर्जा दिया गया: पंडित सतेन्द्र शर्मा देवबंद : हिन्दू धर्म में माता-पिता और पूर्वजों को देवता का दर्जा दिया गया है और उनकी सेवा से बढ़कर कोई और दूसरी सेवा नहीं है। श्राद्ध का तात्पर्य पितरों के प्रति प्रकट की जाने वाली श्रद्धा से है एंव

क्या आप जानते है शकुनि के पासे का रहस्य…

यह बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि शकुनि के पास जुआ खेलने के लिए जो पासे होते थे वह उसके मृत पिता के रीढ़ की हड्डी के थे। अपने पिता की मृत्यु के पश्चात शकुनि ने उनकी कुछ हड्डियां अपने पास रख ली थीं। शकुनि जुआ खेलने में पारंगत था और उसने कौरवों में

माता के इस मंदिर में तेल से नहीं पानी से जलता है दीपक

दुर्गा माता मंदिर, ग्राम गड़ियाघाट, पानी का दीया, जल की ज्योति, नलखेड़ा, कालीसिंध, चमत्कारिक मंदिर भारत में माता दुर्गा के कई चमत्कारिक मंदिर है। इसी तरह का एक और माता का चमत्कारिक मंदिर मध्यप्रदेश के मालवा में शुजालपूर जिले की तहसील नलखेड़ा से 15 किलोमीटर दूर ग्राम गड़ियाघाट में स्थित है। यहां तेल या घी

आज के विमानों से कही ज्यादा एडवांस टेक्नोलॉजी थी पुष्पक विमान में

रामायण के अनुसार रावण के पास कई लड़ाकू विमान थे। पुष्पक विमान के निर्माता विश्वकर्मा थे। कुछ के अनुसार पुष्‍पक विमान के निर्माता ब्रह्मा थे। ब्रह्मा ने यह विमान कुबेर को भेंट किया था। कुबेर से इसे रावण ने छीन लिया। रामायण में वर्णित है कि रावण पंचवटी से माता सीता का हरण करके पुष्पक

मंगलवार को बजरंगबली के किस उपाय से मिलता है क्या लाभ, पढ़ें 10 बातें

हम सभी जानते हैं कि मंगलवार और शनिवार बजरंगबली का दिन है। मंगलवार को हनुमान जी खास पूजन का खास लाभ देते हैं। आइए जानें… 1.अगर प्रत्येक मंगलवार को हनुमान जी का सिंदूर से पूजन किया जाए तो समस्त दुखों से मुक्ति मिलती है। 2. हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जिनकी पूजा में सावधानी

मंगल के जन्म की पौराणिक कथा, यंहा हुआ था मंगल का जन्म

मंगल ग्रह के जन्म की एक कथा कुछ इस प्रकार है। अंधकासुर नामक दैत्य को तप के बाद भगवान शिव ने वरदान दिया था कि उसके रक्त से सैकड़ों दैत्य जन्म लेंगे। वरदान पाकर इस दैत्य ने अवंतिका में तबाही मचा दी। तब दीन-दुखियों ने शिव से प्रार्थना की। भक्तों के संकट दूर करने के

रमजान विशेषः रमजान सब्र का महीना है और सब्र का इनाम जन्नत है

[शिबली इकबाल] रमजान का महीना अल्लाह की रहमतो का खजाना है। रमजान बरकतों का महीना है जिसमें अल्लाह की बेशुमार रहमतें बरसती है। रमजान के महीने मंे अल्लाह अपने बंदो के गुनाहो को माफ कर उन्हे दोजख से आजादी का परवाना अता करता है। रमजान सब्र का महीना है और सब्र का इनाम जन्नत है।

रमजान विशेष: रोजा पवित्र माह रजजानुल मुबारक की सबसे अहम इबादत

रमजान के सारे रोजा रखना मुसलमान मर्द, औरत, आकिल, बालिग पर है फर्ज शिबली इकबाल: रमजानुल मुबारक के मुकददस महीने की इस्लाम धर्म में अलग ही महत्व है। इसी महीने में अल्लाह का पवित्र कलाम कुरान पाक नाजिल हुआ। रमजान महीने का रोजा मजहबें इस्लाम का अहम रूकन (भाग) है। नबी करीम मोहम्मद स.अ.व. की

मां वैष्णोदेवी मंदिर की कहानी और उसकी महिमा जानिए

वैष्णोदेवी एक पवित्रतम हिन्दू मंदिर है, जो देवी शक्ति को समर्पित है। यह मंदिर भारत के जम्मू और कश्मीर में पहाड़ी पर स्थित है। मां वैष्णोदेवी मंदिर की कहानी और महिमा के बारे में यह माना जाता है कि करीबन 700 साल पहले मां वैष्णोदेवी मंदिर का निर्माण पंडित श्रीधर द्वारा हुआ था, जो एक

vastu-mantr

याद रखें यह 5 वास्तु मंत्र, हर संकट का होगा अंत

> वास्तु के अनुसार घर में पेड़-पौधे लगाने पर वे मानसिक शांति देते हैं। ये ध्वनि और विकिरणों को भी ग्रहण कर लेते हैं। ऐसा ही एक पौधा है मनीप्लांट जिसे किसी कोने में लगाकर उस जगह की उदासीनता (नकारात्मक ऊर्जा) को कम किया जा सकता है। > अपना निवास, कारखाना, व्यावसायिक परिसर अथवा दुकान

Subh Sanyog

मई 2018 के शुभ योग-संयोग जानिए…

कार्य-सिद्धि योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी नए कार्य को शुरू करने से पहले शुभ योग-संयोग को देख-परख लेना श्रेष्ठ होता हैं। अगर आपको किसी भी माह में नया कार्य आरंभ करना हो तो शुभ योग-संयोग देखकर किया जाए तो सफलता निश्चित रूप से मिलती है। आपके लिए प्रस्तुत हैं

Amarnath

अमरनाथ में हुआ है बड़ा चमत्कार

अगर आप अमरनाथ यात्रा पर जा रहे हैं तो आपके लिए बड़ी खुशखबर है। इस बार बाबा बर्फानी के भक्तों को 12 फुट ऊंचे शिवलिंग के दर्शन होंगे। इस बार बाबा बर्फानी का 12 फुट ऊंचा शिवलिंग बना है। इस बार बाबा के साथ माता पार्वती के दर्शन भी होंगे। भक्तों के लिए एक और

24CityNews

Top