जम्मू को दहलाने की बड़ी साजिश नाकाम, जम्मू बस स्टैंड में बस से 18 किलो विस्फोटक बरामद

 

जम्मू। सेना ने एक बार फिर आतंकवादियों के जम्मू संभाग को दहलाने के मंसूबों पर पानी फेर दिया है। खुफिया एजेंसियों की चौकसी के कारण बड़ी साजिश को नाकाम करते हुए सेना ने जम्मू बस स्टैंड के नजदीक एक बस से 18 किलो विस्फोटक सामग्री बरामद की है। यह बस बिलावर से जम्मू पहुंची थी। विस्फोटक के साथ दो लोगों को भी हिरास्त में लिया गया है। जो कि बस के ड्राइवर व कंडक्टर बताए जा रहे हैं। विस्फोट सामग्री के साथ नक्शा भी बरामद हुआ है जिसमें बस स्टैंड, एयरपोर्ट और बड़ी ब्राह्मणा सैन्य शिविर के बारे में जानकारी दी गई थी।

सूत्रों ने बताया कि बिलावर से बस में लाई गइ यह विस्फोटक सामग्री जम्मू में आतंकवादियों तक पहुंचाई जानी थी। खुफिया एजेंसियों को इसकी भनक लग गई। बस जैसे ही जम्मू केसी थिएटर के नजदीक पहुंची, सेना ने उसे घेर लिया। तलाशी लेने पर उसमें से 18 किलो विस्फोटक सामग्री बरामद हुई। सूत्रों ने बताया कि यह विस्फोटक सामग्री पैकेट में बंद थी। पूछताछ के दौरान ड्राइवर ने बताया कि यह पैकेट उन्हें बिलावर से चलते हुए एक महिला ने दिया था। उन्हें कहा गया था कि जम्मू बस स्टैंड पहुंचने पर एक व्यक्ति उनसे यह पैकेट ले लेगा। इसके लिए उन्हें 200 रूपये भी दिए गए थे।

इससे पहले वह व्यक्ति ड्राइवर व कंडक्टर तक पहुंचता और यह विस्फोटक सामग्री पकड़ता, सेना ने पहले ही विस्फोटक सामग्री को अपने कब्जे में ले लिया। हो सकता है कि यह कार्रवाई होते देख वह व्यक्ति मौके से फरार हो गया हो। सेना द्वारा विस्फोटक सामग्री के साथ पकड़े गए ड्राइवर व कंडक्टर को पुलिस की एसओजी टीम को सौंप दिया है। उनकी पहचान विक्रम और विजय के रूप में हुई है। उनसे पूछताछ की जा रही है।

वहीं, सेना ने बरामद विस्फोटक सामग्री भी पुलिस को सौंप दी है। विस्फोटक सामग्री की जांच की जा रही है। बताया जा रहा है कि ड्राइवर व कंडक्टर की सूचना के आधार पर बिलावर में संदिग्ध महिला की भी तलाश की जा रही है।

इससे पहले भी सेना ने तलाशी अभियान के दौरान बिलावर से 30 किलो विस्फोटक बरामद किया था। यह विस्फोटक सामग्री बिलावर के गांव देवल में खलील अहमद पुत्र सत्तरदीन एक घर से बरामद हुई थी। करीब दो दिन बाद सुरक्षाबलों ने खलील को सुकराला के जंगल से गिरफ्तार कर लिया था। खलील के गिरफ्तार होने के बाद एएसपी, सेना के अधिकारी व अन्य खुफिया एजेंसी बिलावर थाने में डेरा डाले हुए थे। उससे पूछताछ की जा रही है कि इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक कहां से आया और इसे किस काम के लिए इस्तेमाल किया जाना था।

 
 
Top