आयुष्मान फर्जीवाड़ा: पांच अस्पतालों ने सरकारी खजाने में जमा कराई क्लेम की रकम, अब नहीं चलेगा केस

 

अटल आयुष्मान योजना में फर्जीवाड़ा करने वाले प्रदेश के पांच निजी अस्पतालों ने गलत ढंग से प्राप्त किए गए क्लेम की राशि सरकारी खजाने में जमा करा दी है। अब इन अस्पतालों पर एफआईआर दर्ज नहीं की जाएगी। पैसा लौटाने पर राज्य स्वास्थ्य अभिकरण ने पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर अस्पतालों पर कानूनी कार्रवाई न करने को कहा है।

आयुष्मान योजना के तहत गोल्डन कार्ड से मरीजों का इलाज करने में 13 निजी अस्पतालों का फर्जीवाड़ा सामने आया था, जिनमें अस्पतालों ने अनुबंध के नियमों को नजरअंदाज कर मोटी कमाई के लिए गलत ढंग से सरकार से क्लेम लिया।

जांच में फर्जीवाड़ा सही पाए जाने पर राज्य स्वास्थ्य अभिकरण ने अस्पतालों का अनुबंध निरस्त कर पेनल्टी लगाई थी। नोटिस के बाद भी गलत ढंग से ली गई क्लेम राशि वापस न होने पर अभिकरण ने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के लिए पुलिस महानिदेशक को पत्र भेजा था।

सरकार की सख्ती से पांच अस्पतालों ने पेनल्टी की राशि सरकारी खजाने में जमा करा दी है। जिससे अब इन अस्पतालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई नहीं की जाएगी। इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य अभिकरण के अध्यक्ष डीके कोटिया ने डीजीपी को पत्र भेज कर संबंधित थानों प्रभारियों को एफआईआर दर्ज न करने के लिए निर्देश देने को कहा है।

 
 

Related posts

Top