लालकिला छावनी बना, आसमां तक निगहबानी, इन मार्गों पर जाने से बचें, मेट्रो पार्किंग बंद

 

खुफिया विभाग के अलर्ट के बाद स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। आतंकी खतरे को देखते हुए दिल्ली पुलिस के अलावा अन्य सुरक्षा एजेंसियां और अर्द्धसैनिक बल के जवानों को समारोह स्थल के आसपास तैनात कर दिया है। चप्पे पर पुलिस और तीसरी आंख की नजर है।  प्रधानमंत्री के आवास से लेकर लालकिले तक अभेद्य सुरक्षा व्यवस्था की गई है। इस बार 20 हजार से ज्यादा जवानों को सिर्फ लाल किले की प्राचीर से लेकर लुटियन जोन की सुरक्षा में लगाया गया है। 15 अगस्त की दोपहर तक लुटियन जोन से कोई गाड़ी, सामान बिना दिल्ली पुलिस की स्कैनिंग के नहीं निकलेगा।

खुफिया अलर्ट है कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने की बौखलाहट में आतंकी किसी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। इससे निपटने के लिए दिल्ली पुलिस के अलावा बीएसएफ, सीआरपीएफ, एसएसबी, एनएसजी के जवानों का घेरा बनाया गया है। प्रधानमंत्री के रूट पर सभी जगहों पर अर्द्धसैनिक बल के जवानों की तैनाती की गई है। समारोह के दौरान जमीन से लेकर आसमान तक सुरक्षा का कड़ा पहरा रहेगा। दिल्ली से सटीं सीमाओं  को सील कर दिया गया है। कोई व्यावसायिक वाहन स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम समाप्त होने तक दिल्ली में प्रवेश नहीं कर सकेगा। निजी वाहनों को सघन तलाशी के बाद ही दिल्ली में प्रवेश की अनुमति होगी।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लालकिले व उसके आसपास हवाई हमला को रोकने के लिए पांच दर्जन ऊंची इमारतों की छतों पर एंटी ड्रोन, एंटी एयरक्राफ्ट व एयर डिफेंस गन लगाई गई हैं। आधी रात के बाद लाल किले की ओर जाने वाले मार्गों को पूरी तरह बंद कर दिया गया। साथ ही वीआईपी रूट पर भी सुरक्षा के तगड़े बंदोबस्त किए गए हैं। इन मार्गों पर अत्याधुनिक हथियार से लैस जवान को तैनात किया गया है। इन मार्गों पर नजर रखने के लिए पीटीजेड कैमरे लगाए गए हैं। ऊंची इमारतों पर तैनात जवान दूरबीन से पूरे इलाके पर नजर रखेंगे। पुलिस ने लाल किले के पास स्थित बड़ी इमारतों को अपने कब्जे में ले लिया था। स्वात और पराक्रम दस्तों को तैनात किया गया है। ये अपनी लोकेशन बदलते रहेंगे। इसके अलावा सादे कपड़ों में पुलिसकर्मी पूरे इलाके पर निगरानी रखेंगे। लाल किले और आसपास के इलाके में चेहरे को पढ़ने वाले 500 से ज्यादा कैमरे लगाए गए हैं। इससे भीड़ के बीच में संदिग्धों की पहचान हो सकेगी। लाल किले के अलावा राष्ट्रपति भवन, प्रधानमंत्री आवास समेत कई वीवीआईपी इमारतों को सुरक्षा में जवानों को तैनात किया गया है।

 
 

Related posts

Top