Apply for Journalist

अलकायदा सरगना जवाहिरी के वीडियो पर विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘ऐसी धमकियां हम सुनते रहते हैं’

 

आतंकी संगठन अल-कायदा के सरगना अयमान अल जवाहिरी की धमकी को विदेश मंत्रालय ने कोरी धमकी करार दिया है। जवाहिरी के वीडियो को लेकर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘ऐसी धमकियां हम सुनते रहते हैं, मुझे नहीं लगता इनको गंभीरता से लेना चाहिए। हमारे सुरक्षा बल के पास पर्याप्त संसाधन हैं और हमारी क्षेत्रीय अखंडता और संप्रभुता को बनाए रखने में सक्षम हैं।’

Raveesh Kumar, MEA on Al-Qaeda Chief Ayman al Zawahiri’s video: ‘Aisi dhamkiyaan jo hai na hum sunte rehte hain, mujhe nahi lagta inko seriously lena chahiye.’ Our security forces are well equipped and capable of maintaining our territorial integrity & sovereignty. pic.twitter.com/hI4vF8DlyS

बता दें कि अल जवाहिरी ने अपने वीडियो में कश्मीर को लेकर भारत को गीदड़ भभकी दी थी। जवाहिरी ने डोन्ट फॉरगेट कश्मीर नाम से एक संदेश जारी कर घाटी के आतंकियों का गुणगान किया।अलकायदा की मीडिया विंग अस-साहाब ने जवाहिरी का जो संदेश जारी किया उसमें आतंकी जाकिर मूसा की भी फोटो भी लगाई गई थी जो कश्मीर में अलकायदा की भारतीय शाखा अंसार गजावत उल हिंद का संस्थापक था। जवाहिरी ने अपने संदेश में भारत में सुरक्षाबलों पर हमले के लिए नई भर्ती करने की योजना का भी खुलासा किया।

अमेरिका के साथ व्यापार मुद्दा

वहीं अमेरिका के साथ व्यापार के मुद्दे पर चल रहे विवाद पर रवीश कुमार ने कहा कि अमेरिका के साथ बैठक जारी है, दोपहर के खाने के बाद एक बैठक थी, यह फिर शुरू होगी। ओसाका में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुलाकात के समय यह फैसला लिया गया था कि दोनों देशों के अधिकारी मुलाकात करेंगे और व्यापार संबंधी सभी बाकी बचे मुद्दों को हल करेंगे।

Raveesh Kumar, MEA: Meeting (with US) is on as we speak, there was a meeting followed by lunch, in the afternoon also it will resume. It was decided in Osaka when PM & President Trump met that officials from both sides will meet to resolve all outstanding issues related to trade. pic.twitter.com/hjKhDgJJmm

— ANI (@ANI) July 11, 2019

करतारपुर कॉरिडोर

वहीं, करतारपुर कॉरिडोर के मुद्दे पर रवीश ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि यह प्रोजेक्ट जल्द से जल्द पूरा हो जाए। जहां तक इन्फ्रास्ट्रक्चर की बात है, दो पहलुओं पहलुओं पर काम चल रहा है। इनमें से एक अत्याधुनिक यात्री टर्मिनल है और एक चार लेन का हाईवे है, जो करतारपुर कॉरिडोर के जीरो पॉइंट को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ेगा।’

रवीश ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि दोनों प्रोजेक्ट का काम समय पर पूरा हो जाएगा। यात्री टर्मिनल सितंबर 2019 तक और हाईवे का काम अक्तूबर 2019 तक पूरा होने की उम्मीद है। इसलिए ऐसी रिपोर्ट्स जो यह बता रही हैं कि हमारे प्रोजेक्ट धीमी गति से चल रहे हैं, ये गलत हैं।’

उन्होंने कहा कि हम न केवल इन्फ्रास्ट्रक्चर संबंधी पहलुओं को बल्कि एक पुल के निर्माण को भी पाकिस्तान के सामने रख चुके हैं। मुझे लगता है कि कुछ चर्चा चल रही है कि पुल बनना चाहिए या पक्की सड़क का निर्माण होना चाहिए।

MEA on #KartarpurCorridor: We have taken it up with Pakistan in the past not only on infrastructure related points, including the construction of a bridge, I think there is some discussion going on whether there should be a bridge or a paved road but even on other aspects. (3/3) https://t.co/qVYccGsCZ6

— ANI (@ANI) July 11, 2019
 

 
 

Related posts

Top