महाशिवरात्रि: शुभ मुहूर्त के साथ जानें पूजन विधि | 24CityNews
CrickCash.Com

महाशिवरात्रि: शुभ मुहूर्त के साथ जानें पूजन विधि

 
Need Reporters

शास्त्रों के अनुसार शिव ही सांसारिक सुखों का आधार हैं। सांसारिक इच्छाओं का मूल हैं  हर व्यक्ति के मन में धन संपन्नता व भौतिक सुखों को बंटोरने का भाव आता है, जिसे पूरा करने हेतु वह धार्मिक उपाय चुनता है। मंगलवार दि॰ 13.02.18 को फाल्गुन मास की प्रदोष व्यापीनी कृष्ण चतुर्दशी के उपलक्ष्य में महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाएगा। पौराणिक मान्यतानुसार महाशिवरात्रि पर्व वैदिक काल से ही मनाया जाता है। इस व्रत व पर्व का पालन देवी लक्ष्मी, सरस्वती, गायत्री, सीता, पार्वती व रति ने विधिवत किया था। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाई जाने वाली महाशिवरात्रि शिव-शक्ति के मिलन का पर्व है।

मान्यतानुसार महाशिवरात्रि के प्रदोषकाल में शंकर-पार्वती का विवाह हुआ था। प्रदोष काल में महाशिवरात्रि तिथि में सर्व ज्योतिर्लिंगों का प्रादुर्भाव हुआ था। शास्त्रनुसार सर्वप्रथम ब्रह्मा व विष्णु ने महाशिवरात्रि पर शिवलिंग पूजन किया था। पौराणिक मान्यतानुसार दिव्य ज्योर्तिलिंग का उदभव भी महाशिवरात्रि पर्व पर माना जाता है व इसी दिन को ही शिव उत्पत्ति के रूप में मानते हैं। महाशिवरात्रि की उपासना तन, मन और धन से जुड़ी कामनाओं में आने वाली बाधाओं को दूर करती है। दु:ख, दरिद्रता व धन के अभाव को दूर कर धन, संतान, निरोगी काया प्रदान कर वैभवशाली व संपन्न बनाती है।

मुहूर्त विशेष: आज मंगलवार दि॰ 13.02.18 को महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में रात्रि जागरण, रात्रि पूजन व व्रत का पालन किया जाएगा। चतुर्दशी तिथि दी॰ 13.02.18 को रात 22:34 से प्रारंभ होकर अगले दिन बुधवार दि॰ 14.02.18 को रात 00:46 तक रहेगी। अतः महा शिवरात्रि के व्रत का पारण बुधवार दि॰ 14.02.18 को प्रातः 07:04 से शाम 15:20 तक रहेगा। अतः बुधवार दि॰ 14.02.18 को चतुर्दशी के उपलक्ष्य में शिवालयों व मंदिरों में विशेष पूजा अभिषेक व अर्चन किया जाएगा परंतु शिवरात्रि व्रत, जागरण व निशीथ पूजन मंगलवार दि॰ 13.02.18 को ही मान्य होगा।

प्रदोष काल पूजन मुहूर्त: शाम 18:05 से रात 21:20 तक।

संधि काल पूजन मुहूर्त: रात 22:00 से रात 23:00 तक। (त्रियोदशी का चतुर्दशी से मिलन)

निशीथ काल पूजन मुहूर्त: रात 00:09 से रात 01:01 तक।

विशेष पूजन विधि: शिवरात्रि के प्रदोष काल में शिवलिंग को जल, दूध, बिल्वपत्र और सफेद आंकड़ा समर्पित करें तत्पश्चात शिवलिंग पर धूप, दीप गंध, पुष्प  दूध, अक्षत, धतूरा, बिल्वपत्र व नैवेद्य अर्पित कर पंचोपचार पूजन करें तथा चंदन की माला से इस विशेष मंत्र का 1 माला जाप करें। पूजन के बाद नैवेद्य सभी में वितरित कर दें।

पूजन मंत्र: श्रीं शितिकण्ठाय नमः शिवाय श्रीं॥

उपाय
निरोगी काया की प्राप्ति हेतु शिवलिंग पर शहद से अभिषेक करें।
धन के अभाव से मुक्ति हेतु शिवलिंग पर चढ़े सिंदूर से घर के मेन गेट पर “श्रीं” लिखें।
दरिद्रता से मुक्ति हेतु शिवलिंग पर चढ़ा चांदी का सिक्का तिजोरी में रखें।

 
 
Top