15 लाख की हुई छंटनी, नौकरी किसी को नहीं­ मिली | 24CityNews
CrickCash.Com

15 लाख की हुई छंटनी, नौकरी किसी को नहीं­ मिली

 
Need Reporters

पटना : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने केन्द्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीत नरेन्द्र मोदी सरकार पर रोजगार सृजन का वादा पूरा नहीं करने और विभिन्न विभागों में रिक्त पड़े पदों पर बहाली नहीं किये जाने का आरोप लगाया और कहा कि इसके लिए खिलाफ राज्यव्यापी आंदोलन होगा।

राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने यहां पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मोदी सरकार को केन्द्र की सत्ता में आये करीब चार वर्ष होने को है लेकिन देश में बेरोजगारी के कारण गरीबी लगातार बढ़ रही है। यदि बेरोजगारी समाप्त होती तो गरीबी स्वत: समाप्त हो जाती।

उन्होंने कहा कि श्री नरेन्द्र मोदी ने सत्ता में आने से पूर्व वादा किया था कि प्रति वर्ष दो करोड़ युवाओं को नौकरी दी जायेगी। श्री सिंह ने कहा कि बिहार में भी यह आलम है कि राज्य सरकार ने बालू बंदी कर लाखों लोगों को बेरोजगार बना दिया है। इसी तरह राज्य में शिक्षकों के दो लाख पद, सिपाहियों के 31143 पद खाली हैं।

इसके अलावा कई विभागों में भी कर्मचारियों की भारी कमी है। राजद नेता ने कहा कि भाजपा सरकार का चार वर्ष का कार्यकाल पूरा हो चुका है। पिछले चार वर्षों में नौकरी तो किसी को नहीं मिली लेकिन 15 लाख लोगों की छंटनी जरूर कर दी गयी है और आगे भी आर्थिक मंदी के कारण छंटनी का खतरा बना हुआ है।

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में दो प्रतिशत की कमी आयी है और युवा जॉबलेस हैं। उन्होंने कहा कि इसी कारण बेरोजगारी की दर में वृद्धि हो रही है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि सूचना एवं प्रोद्यौगिकी के क्षेत्र में करीब 40 लाख लोगों को प्रत्यक्ष रूप से रोजगार प्राप्त हैं लेकिन उसमें प्रत्येक वर्ष लाखों लोगों की छंटनी हो रही है।

रोजगार देने का ठोस वादा करने के बाद सरकार ने रोजगार सृजन के लिए कोई प्रयास नहीं किया जबकि केन्द्र और राज्य सरकारों के अधीन लाखों पद रिक्त पड़े हैं।उन्होंने कहा कि कर्मचारियों के अभाव में कामकाज सही ढंग से नहीं हो पा रहा है। श्री सिंह ने कहा कि देश भर में शिक्षक के दस लाख पद रिक्त हैं जिसके कारण शिक्षण संस्थानों में पढ़ाई नहीं हो पा रही है।

केंद्र सरकार में कर्मचारियों का चार लाख से अधिक पद रिक्त है। इसी तरह देश में पुलिस के पांच लाख पद खाली पड़े हैं। उन्होंने कहा कि रिक्त पदों पर बहाली के लिए उच्चतम न्यायालय ने भी सरकार को फटकार लगायी है। पुलिस की कमी के कारण विधि-व्यवस्था में गिरावट दर्ज की जा रही है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि रेलवे में भी दस लाख पद खाली हैं। इसी तरह स्वास्थ्य, ऊर्जा, आवास एवं परिवहन विभाग में भी लाखों पद खाली पड़ हैं। उन्होंने कहा कि करोड़ बेरोजगार नौजवान योग्यता रहते हुए भी रोजी-रोटी के लिए भटक रहे हैं।

केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में कुलपति के 22 पद, शिक्षकों के 60 प्रतिशत पद के अलावा दिल्ली विश्वविद्यालय के 22 महाविद्यालयों में प्राचार्य का पद रिक्त है। उन्होंने कहा कि देश के 1142 केन्द्रीय विद्यालयों में 56000 कर्मचारियों के स्वीकृत पदों के विरुद्ध 14000 पद खाली हैं।

श्री सिंह ने कहा कि बढ़ती बेरोजगारी की समस्या और रिक्त पड़े पदों पर बहाली की मांग को लेकर पार्टी राज्यव्यापी आंदोलन करेगी जिसकी रूपरेखा तैयार की जा रही है। उन्होंने कहा कि इन मुद्दों को लेकर लड़ाई तबतक जारी रहेगी जबतक बेरोजगार युवाओं को रोजगार नहीं मिला जाता।

 
 
Top