वाराणसी में प्रशासन की सख्ती के बाद भी निकली भारतीय निर्माण मजदूर यूनियन की पदयात्रा | 24CityNews
CrickCash.Com

वाराणसी में प्रशासन की सख्ती के बाद भी निकली भारतीय निर्माण मजदूर यूनियन की पदयात्रा

 
पदयात्रा निकालते कार्यकर्ता पदयात्रा निकालते कार्यकर्ता
Need Reporters

वाराणसी [दिग्विजय त्यागी] : जिला प्रशासन द्वारा पदयात्रा को रोकने की लाख कोशिशो के बीच भारी दबाव में भारतीय निर्माण मजदूर यूनियन (BNMU) ने इंकलाब जिदाबाद, रोजी रोटी दे न सके जो वह सरकार निकम्मी है, सभी भूमिहीनो को जमीन का पट्टा दो, गरीबो पर अत्याचार बंद करो के नारो के साथ गुरुवार को सुबह 6 बजे चेतावनी पदयात्रा निकाली।

पदयात्रा हरहुआ ब्लाक के पुआरीकलाँ से शुरु होकर पीएम मोदी के कैम्प कार्यालय के लिए चली। वाराणसी जिलाधिकारी द्रारा कलेक्ट्रेट कार्यालय के पास पदयात्रा को रोक दिया गया जिस पर यूनियन की नेता मरजादी ने वंही पर सभा शुरू कर संबोधित करना शुरू कर दिया।

भानिमयू नेता मरजादी ने कहा कि भूमिहीन, बेघर, मजदूर परिवारो के पास कही भी खडे़ होने तक की जगह नही है, उनके पास रहने को घर नही, रोजगार नहीं। सरकार हर साल कारपोरेट का हजारो करोड़ कर्जा माफ करती है लेकिन वह गाँव व शहरो में झोपडी़ लगाकर रहने वाले लोगो के लिए कुछ नही करती। सरकार समाजिक सुरक्षा के नाम पर सिर्फ लालीपाप बाँट रही है।

उन्होने यह भी कहा कि जिले में एक तरफ हजारों बीघा सरकारी भूमि पर दबंगों का कब्जा है तो दूसरी ओर भूमिहीन, बेघर व मजदूर परिवारो का दमन हो रहा है। सरकार ने हक वंचित समुदायो को कोई पट्टा नही दिया। यदि पट्टा आवंटित भी हुआ तो उसे आज तक कब्जा नही मिला। गरीब पट्टे के कागज लेकर सरकारी दफ्फतरो में चक्कर लगा रहा है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। दूसरी तरफ सरकार धनाढ्य वर्ग को भूमि दे दिया।

भानिमयू के सचिव विनोद कुमार ने कहा की मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस समेत पूरे प्रदेश की सरकारी जमीन पर दबंग व ऊँची जाती के लोगो का कब्जा है। यहाँ तक की दलितों, वंचितो को दिये गये पट्टे की जमीन पर भी गाँव के उचे लोगो का कब्जा है। प्रशाशन दबंग लोगो के साथ मिलकर हक वंचितो का दमन कर रही है। उन्होने कहा कि जब तक मजदूर वर्ग को घर की सुविधा नहीं मिलती तब तक चैन से नहीं बैठेंगे। उन्होने कहा की भूमि के बिना मजदूर के घर का सपना पूरा नहीं होगा। सरकार भूमिहीनो, बेघरो व मजदूरो की मुसीबतों को दूर कर हक वंचित समुदाय के विकास के लिए योजना लाये।

भानिमयू की महिला नेता मालती ने कहा की PM MODI जी मन की बात तो करते है लेकीन गरीबो के काम की बात नही करते है। उन्होने कहा की पीएम मोदी जी के क्षेत्र में हक वंचित समाज पर हमले बढ़ गये है और गरीबो, दलितों, मजदूरों की कोई सुनवाई नही हो रही है।

 

पदयात्रा को रोकता प्रशासन

पदयात्रा को रोकता प्रशासन

भानिमयू के महिला प्रभारी कमरुनिशा ने कहा की ये कैसा विकास है जंहा पर एक हक वंचित समाज अपने हक के लिए सघर्ष कर रहा है और उसका हक न देकर उसका दमन किया जा रहा है। उन्होने कहा की क्या यही “सबका साथ सबका विकास” है सिर्फ नारा देने से ही हक वंचितो का हक नही मिलेगा उस पर अमल करना होगा।

हरहुआ ब्लाक से निकली चेतावनी पदयात्रा के आगे प्रशाशन को झुकना पडा़। भाजपा और प्रशाशन के नाकेबन्दी के कारण यूनियन के बहुत सारे साथी पदयात्रा में शामिल नही हो पाये।

जिलाधिकारी द्रारा कुछ मांगो को एक हफ्ते में पूरा कराने और शेश मांगो को प्रधानमंत्री के पास भेजकर उसे जल्द से जल्द पूरा कराने का आश्वाशन पर सभा को समाप्त हुआ।

सभा में शामिल सुनीता, लालजी, मालती, सहती, जरबन, राधे, लालमनी, राजेश, मुन्ना, कल्लू व अन्य साथियों ने भी अपनी सभा को संम्बोधित कर मांगो को जल्द से जल्द पूरा कराने की बात पर सभा को समाप्त किया गया।

भारतीय निर्माण मजदूर यूनियन निम्न मांगो को लेकर निकाला चेतावनी पदयात्रा

  1. सभी ग्रामीण व शहरी भूमिहीनों को जमीन का पट्टा व कब्जा देने के लिए एक कमेटी का गठन कर भूमिहीनो को पट्टा व कब्जा दिया जाय।
  2. सभी भूमिहीनो,बेघरो,झुग्गी झोपडी़ मे रहने वाले लोगो व मजदूरो को निशुल्क आवास व मकान बनाने के लिए 3 लाख तक की ग्रांट दिया जाय।
  3. सभी सामाजिक सुरक्षा पेंशनधारियों को 3000 रुपया प्रतिमाह की दर से देने,
  4. मनरेगा के तहत सभी मजदूरो 300 दिन का काम दिया जाय व न्यूनतम मजदूरी रु.500 प्रतिदिन की निर्धारित की जाय।
  5. मजदूरो के उत्पीड़न को रोकने,उनके समस्याओ का तत्काल निस्तारण करन व उनके अधिकारो की रक्षा के लिए मजदूर आयोग का गठन किया जाय।
  6. गांव-गांव में जो सार्वजनिक संपत्ति जैसे चारागाह, तालाब, नदी, नाले आदि को कब्जे से मुक्त कराकर उस पर बोर्ड लगाया जाय।
  7. केन्द्र सरकार सभी किसानो का पूरा कर्ज माफ करने के वादे को पूरा करे।
  8. सभी खेत मजदूरों के लिए राष्ट्रीय कानून व खेत मजदूर श्रम कल्याण बोर्ड का गठन किया जाय।
  9. दलितों,गरीबों,मजदूरों और महिलाओं पर अत्याचार बंद करने तथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग शामिल है।
  10. अजगरा विधानसभा क्षेत्र के ग्रामसभा पुआरीकलाँ मे भाजपा नेताओ और ग्रामप्रधान पति के द्रारा दलित मरजादी,लालजी सहती सहित लर्जनो लोगो पर किये जा रहें अत्याचार पर रोक लगाते हुए दोषी के उपर कार्यवाही करे।

 

यह भी पढ़े

 
 
loading...

Related posts

Top