मोदी का दलित प्रेम सिर्फ दिखावा, BJP सरकार में दलितों का सबसे ज्यादा दमन - अमित अम्बेड़कर | 24CityNews


मोदी का दलित प्रेम सिर्फ दिखावा, BJP सरकार में दलितों का सबसे ज्यादा दमन – अमित अम्बेड़कर

 
Amit Ambedkar Amit Ambedkar

लखनऊ/वाराणसी (Lucknow): भारतीय निर्माण मजदूर यूनियन (BNMU) के नेता अमित ने कहा की भाजपा का दलित प्रेम सिर्फ दिखावा है, भाजपा सरकार में लगातार दलितों पर हमले हो रहे है। UP में YOGI सरकार के अस्तित्व में आने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओ द्वारा दलितो का दमन कर उन्हें फर्जी मुकदमे में फंसाने के प्रयास किये जा रहे है।

भानिमयू के अध्यक्ष अमित ने सवाल उठाया कि PM MODI जब अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी मे ही दलितो के उपर हो रहे हमलो को रोकने में समर्थ नहीं है तो पूरे देश मे वो ऐसा कर पायेंगे इसमें संसय है। जिन जिन राज्यों में भाजपा की सरकार है वहा पर दलितों, मुसलमानो का दमन हो रहा है।

उन्होने कहा की बहराइच जिले के फखरपुर थाना क्षेत्र के बुबकापुर गांव में शुक्रवार को जिस तरह से फार्म हाउस से लगभग 100 गाय की लाश बरामद हुई और उस मामले में एक हिन्दू का नाम आया है, इससे यह साबित हो गया की गाय के बहाने सिर्फ मुसलमानो को निशाना बनाया जाता है। इस मामले में अगर कोई मुस्लिम नाम होता तो शायद आज पूरे प्रदेश का माहौल कुछ और ही होता।

यूनियन के नेता अमित ने यह भी कहा कि मोदी देश के गरीबो को धोखा दे रहें है, मोदी के कथनी और करनी में अंतर है।  उन्होने प्रधानमंत्री की उज्जवला योजनो पर कटाक्ष करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने गरीबो को मुफ्त में गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने का ढिंढोरा पीटा लेकिन गैस एजेंसीयों ने कनक्शन के नाम पर गरीबो से 1600 रूपये ऐठ लिए। उनोहने कटाक्ष किया कि मुफ्त मकान देने का वादा करके प्रधानमंत्री अब सब्सिडी की बात करने लगे और अब किसानो के कर्जे माफ करने के वादे से भी मुकर गये।

भानिमयू के महासचिव हरिशंकर गुप्ता ने कहा कि 6 अप्रैल को मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में भूमिहीन, बेघर, किसानो, मजदूरो की निकलने वाली चेतावनी पदयात्रा भाजपा के नेताओ और कार्यकर्ता के खिलाफ है, जिसे रोकने के लिए भाजपा पूरी ताकत लगा रही है। पदयात्रा का इतना खौफ है की भाजपा नेता चेतावनी पदयात्रा की अगुवाई करने वाली मजदूर नेता मरजादी व उनके लडके राजेश को फर्जी मुकदमें मे फंसाने की साजिश रच रही है। कहा उन्हे़ घर से ले जाकर बडा़गांव थाने पर बैठाकर मरजादी को भाजपा नेताओ के कब्जे की जमीन को छोडने और पदयात्रा न निकालने चेतावनी देना संघ की नीति को उजागर करता है। भाजपा नेताओ के दबाव से मजदूर नेता को जेल भेजने की तैयारी चल रही है। चेतावनी पदयात्रा न करने की धमकी दिया जाना चेतावनी पदयात्रा का डर है।

भाजपा में ढेर सारे दलित सांसद, विधायक और मंत्री है बावजूद इसके दलितों की हालात चिंताजनक है। इससे यह स्पस्ट हो जाता है कि भाजपा सिर्फ हक वंचितो का प्रयोग कर सरकार बनाना चाहती है, भाजपा हक़ वंचितों को उनका हक देना नही है।

यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष मो. शकिल ने कहा की भाजपा बनारस में भूमिहीनो, बेघरो, मजदूरो,और किसानो के होने वाले चेतावनी पदयात्रा को रोकने के लिए जिस तरह से यूनियन के साथियो को भाजपा नेताओ द्रारा साजिश के तहत मुकदमो में फंसाया जा रहा है, उससे यह स्पष्ट होता है की हक वंचितो को भूदास बनाकर रखना भाजपा की सामन्ती और ब्राह्मणवादी नीति का हिस्सा है। भाजपा कितना भी दबाव बना ले लेकिन हक वंचितो के सवाल को लेकर चेतावनी पदयात्रा वाराणसी में जरुर निकलेगा।

यूनियन के सचिव विनोद ने कहा की विकास की बात करने वाले प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस की सारी सरकारी जमीन पर दबंग व ऊची जाती के लोगो का कब्जा है। यहाँ तक की दलितों, वंचितो को दिये गये पट्टे की जमीन पर भी गाँव के उचे लोगो का कब्जा है। हक वंचित लोग पट्टे के कागज को लेकर सरकारी दफ्फतरो का चक्कर लगा रहे है और प्रशाशन दबंग लोगो के साथ मिलकर हक वंचितो का दमन कर रही है। अब “हक वंचितो के दमन के खिलाफ” पूरे प्रदेश  मे आन्दोलन खडा़ किया जायेगा।

 

यह भी पढ़े

 
 
loading...

Related posts

Top